दुनिया बड़ी खबर

रिहाना-ग्रेटा के बाद कमला हैरिस की भांजी ने किया किसानों का समर्थन

नई दिल्ली (इंटरनेशनल डेस्क)। किसान आंदोलन के समर्थन में कल अंतर्राष्ट्रीय पॉप सिंगर रिहाना के ट्वीट के बाद कई और बड़ी हस्तियां किसान आंदोलन के समर्थन को सामने आई हैं। रिहाना द्वारा किसान आंदोलन के समर्थन में किये गए ट्वीट के बाद अब अमेरिका की उप राष्ट्रपति कमला हैरिस की भांजी मीना हैरिस (मीनाक्षी एश्ले हैरिस) ने भी किसान आंदोलन का समर्थन किया है।

अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमल हैरिस की भांजी मीना हैरिस ने किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि एक महीने पहले दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र पर हमला किया गया। अब दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र पर हमला हो रहा है।

मीना हैरिस ने ट्वीट कर कहा कि ‘यह कोई संयोग नहीं है कि दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र पर एक महीने से हमला किया गया और अब सबसे बड़े लोकतंत्र पर हमला किया जा रहा है। यह संबंधित मामला है। हम सभी को भारत के इंटरनेट शटडाउन और किसान प्रदर्शनकारियों के खिलाफ अर्धसैनिक हिंसा के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए।’

गौरतलब है कि मीना हैरिस पेशे से अमेरिकी वकील, बच्चों की किताब लिखने वाली लेखक, प्रेड्यूसर और फिनोमेनेल वुमैन एक्शन कैंपेन की संस्थापक हैं। भारत में पिछले 67 दिनों से चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में कल अंतर्राष्ट्रीय पॉप सिंगर रिहाना द्वारा किये गए ट्वीट के बाद स्वीडन की सामाजिक कार्यकर्त्ता ग्रेटा थनबर्ग ने किसान आंदोलन को अपना समर्थन जताया था। ग्रेटा ने रिहाना के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा था कि हम किसान आंदोलन के समर्थन में खड़े हैं।

ये भी पढ़ें:  कोरोना के बढ़ते मामलो के बीच दिल्ली सरकार ने लगाईं कई नई पाबंदियां

बिना जानकारी टिप्पणी करना गैरज़िम्मेदाराना: सरकार

वहीँ किसान आंदोलन के समर्थन में रिहाना, ग्रेटा और मीना हैरिस के ट्वीट सामने आने के बाद सरकार की तरफ से भी बयान आया है। बुधवार को विदेश मंत्रालय ने कहा कि कृषि सुधारों के बारे में देश के किसानों के एक बहुत ही छोटे वर्ग को कुछ आपत्तियां हैं और विरोध प्रदर्शन के बारे में टिप्पणी करने की जल्दबाजी से पहले तथ्यों की जांच-परख की जानी चाहिए।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि ‘खास तौर पर मशहूर हस्तियों एवं अन्य द्वारा सोशल मीडिया पर हैशटैग और टिप्पणियों को सनसनीखेज बनाने की ललक न तो सही है और न ही जिम्मेदाराना होती है।’

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें