बड़ी खबर राजनीति

खुर्शीद के बाद अब मनीष तिवारी ने अपनी किताब से कराई कांग्रेस की किरकिरी

नई दिल्ली। कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी की किताब के एक अंश में मुंबई हमले के बाद भारत सरकार की तरफ से पाकिस्तान पर कोई कार्रवाही न किये जाने को लेकर उठाये गए सवाल के बाद भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस पर हमलावर हो गई है।

मनीष तिवारी की 304 पेज की किताब ’10 Flash Points; 20 Years- नेशनल सिक्योरिटी सिचुएशन दैट इंपैक्टेड इंडिया’ में डा मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार की आलोचना करते हुए कहा गया है कि “मुंबई आतंकी हमले के बाद तत्कालीन यूपीए सरकार को पाकिस्तान के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए थी। ये ऐसा वक्त था, जब एक्शन लिया जाना बेहद जरूरी था।”

मनीष तिवारी ने 1 दिसंबर को रिलीज होने वाली अपनी नई किताब में लिखा, ‘एक ऐसे राज्य (पाकिस्तान) के लिए, जिसे सैकड़ों निर्दोष लोगों की बेरहमी से हत्या करने में कोई आपत्ति नहीं है, संयम ताकत का संकेत नहीं है; इसे कमजोरी का प्रतीक माना जाता है। एक समय आता है जब एक्शन को शब्दों से अधिक जोर से बोलना चाहिए. 26/11 एक ऐसा समय आया जब इसे किया जाना चाहिए था। इसलिए, मेरा विचार है कि देश को भारत के 9/11 की घटना के बाद काइनेटिक रिस्पॉन्स देनी चाहिए थी।’

ये भी पढ़ें:  शिवसेना ने ममता के बयान से पल्ला झाड़ा, कहा 'कांग्रेस बिना कोई मोर्चा बनना संभव नहीं'

इस प्रकरण पर सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि कांग्रेस की अध्यक्षा सोनिया गांधी जी, राहुल गांधी जी क्या आज अपनी चुप्पी तोड़ेंगे? उन्होंने कहा कि सोनिया जी हमारा प्रश्न है कि भारत की वीर सेना को उस समय अनुमति और खुली छूट क्यों नहीं दी गई?

बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि हमारी वीर सेना पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी से अनुमति मांग रही थी कि हम पाकिस्तान को सबक सिखाएंगे, लेकिन सोनिया गांधी जी ऐसा क्यों हुआ कि हमारी वीर सेना को ये अनुमति क्यों नहीं दी गई?

हालांकि बीजेपी की घेराबंदी के बीच कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने अपनी सफाई में कहा कि मैं बीजेपी की प्रतिक्रिया से खुश हूं और क्या वे राष्ट्रीय सुरक्षा पर ‘कठिन विश्लेषण’ करेंगे?

मनीष तिवारी ने ट्वीट कर कहा, “मैं भारत को प्रभावित करने वाली राष्ट्रीय सुरक्षा स्थितियों पर प्रतिक्रियाओं को विच्छेदित करने की कोशिश करने वाली 304 पेज की किताब के एक अंश पर बीजेपी की प्रतिक्रिया से खुश हूं। मुझे आश्चर्य होगा कि क्या वे राष्ट्रीय सुरक्षा मामले को संभालने के बारे में कुछ “कठिन विश्लेषण” पर इस तरह से प्रतिक्रिया देंगे?

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें