दिल्ली बड़ी खबर राजनीति राज्य

सुभाष चोपड़ा को फिर मिली दिल्ली कांग्रेस की कमान, कीर्ति आज़ाद को भी मिली ज़िम्मेदारी

नई दिल्ली। दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस कायकमान ने एक बार फिर पार्टी के पूर्व अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा पर भरोसा हटाया है। वहीँ कीर्ति आज़ाद को प्रचार समिति की ज़िम्मेदारी दी गयी है।

सुभाष चोपड़ा कांग्रेस के वे चेहरे हैं जिन्होंने दिल्ली में कांग्रेस को बड़े मुकाम तक पहुँचाया। सुभाष चोपड़ा को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद की कमान मिलने से बीजेपी और आम आदमी पार्टी दोनों के लिए मुश्किलें पैदा हो सकती हैं। इसकी अहम वजह सुभाष चोपड़ा की दिल्ली के उस वर्ग के मतदाता पर बड़ी पकड़ बताया जा रहा है जिसके सहारे आम आदमी पार्टी दिल्ली की कुर्सी तक पहुंची है।

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सुभाष चोपड़ा को दिल्ली की कमान देकर बीजेपी और आम आदमी पार्टी को अचरज में डाल दिया है। सुभाष चोपड़ा पार्टी के ऐसे भरोसेमंद चेहरे हैं जो न सिर्फ दस जनपथ के भरोसेमंद माने जाते हैं बल्कि पार्टी में हर नेता से उनकी अच्छी ट्यूनिंग है।

सम्भवतः पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दिल्ली प्रदेश कांग्रेस में गुटबंदी पर विराम लगाने और दिल्ली में पार्टी का खोया हुआ वोट बैंक फिर से जोड़ने के उद्देश्य से सुभाष चोपड़ा को पार्टी की कमान सौंपी है।

वहीँ पार्टी हाईकमान ने कीर्ति आज़ाद को कैंपेन कमेटी का चेयरमैन बनाकर एक तीर से दो निशाने साधने की कोशिश की है। कीर्ति आज़ाद कभी बीजेपी के तेजतर्रार नेता हुआ करते थे लेकिन वे बीजेपी से बगावत कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें