देश बड़ी खबर

प्रशासन के दबाव के बाद पुत्तिंगल मंदिर प्रबंधन समिति के 5 सदस्यों द्वारा आत्म समर्पण

केरल के पुत्तिंगल देवी मंदिर की प्रबंधन समिति के पांच फरार सदस्यों ने आज तड़के आत्मसमर्पण कर दिया। ये पांचों केरल के मंदिर में हुए हादसे के बाद से फरार थे। जांच शुरू करने वाली अपराध शाखा ने मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्यों समेत छह लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 307, 308, और विस्फोटक पदार्थ कानून की धारा चार के तहत मामला दर्ज किया है।

kerala-Kollam-temple

कोल्लम । केरल के पुत्तिंगल देवी मंदिर की प्रबंधन समिति के पांच फरार सदस्यों ने आज तड़के आत्मसमर्पण कर दिया। राज्य में किसी मंदिर में हुए अब तक के सबसे भयंकर हादसे में 109 लोगों की मौत हो गई है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि मंदिर न्यास के अध्यक्ष जयलाल, सचिव जे कष्णनकुटटी, शिवप्रसाद, सुरेंद्रन पिल्लई और रविंद्रन पिल्लई ने पुलिस को सूचित किया कि वे आत्मसमर्पण करना चाहते हैं और उन्होंने परवूर के निकट कप्पिल में एक मंदिर के सामने पहुंचकर आत्मसमर्पण कर दिया।

ये पांचों केरल के मंदिर में हुए हादसे के बाद से फरार थे। राज्य के किसी मंदिर में हुए अब तक के सबसे भीषण हादसे में 109 लोगों की मौत हो चुकी है और 350 से अधिक लोग घायल हैं। जांच शुरू करने वाली अपराध शाखा ने मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्यों समेत छह लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 307, 308, और विस्फोटक पदार्थ कानून की धारा चार के तहत मामला दर्ज किया है।

मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्यों के अलावा ठेकेदारों के सहायकों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है जिन्होंने जिला प्रशासन के प्रतिबंध के बावजूद प्रतिस्पर्धात्मक आतिशबाजी की। विस्फोटक पदार्थों संबंधी एक शीर्ष अधिकारी ने कल कहा था कि नियमों के घोर उल्लंघन और प्रतिबंधित रासायनिक पदार्थों के इस्तेमाल से पुत्तिंगल हादसा हुआ। मंदिर अधिकारियों समेत छह लोगों के खिलाफ हत्या की कोशिश का मामला दर्ज किया गया है।

केरल उच्च न्यायालय मंदिर के समारोहों में पटाखे चलाने एवं आतिशबाजी प्रदर्शनी पर प्रतिबंध सबंधी याचिका पर आज सुबह सुनवाई करेगा। 100 वर्ष पुराने पुत्तिंगल देवी मंदिर में रविवार तड़के अनाधिकत आतिशबाजी प्रदर्शनी के दौरान एक चिंगारी एक स्टोरहाउस में गिर गई थी जिसमें पटाखे रखे थे। इस कारण विस्फोट हो गए और यह भीषण हादसा हुआ।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
Support us to keep Lokbharat Live, Give a small Contribution of Rs.100 to Support Fearless & Fair Journalism
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *