दुनिया देश

ट्रंप ने क्लाइमेट चेंज का ठीकरा भारत पर फोड़ा, कहा ‘इतना प्रदूषित कि सांस भी नहीं ले सकते’

लंदन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जलवायु परिवर्तन के लिए रूस, चीन और भारत को ज़िम्मेदार ठहराया है। अपने तीन दिवसीय ब्रिटेन दौरे के अंतिम दिन ट्रंप ने कहा कि चीन, रुस, भारत जैसे देशों में अच्छी हवा नहीं है ना ही अच्छा पानी है ये काफी प्रदूषित देश हैं।

ट्रंप ने अमेरिका को सबसे स्वच्छ देश बताते हुए कहा कि अमेरिका वर्तमान में सबसे स्वच्छ क्लाइमेट वाला देश है जो हर मानकों पर खरा उतरता है और ये और भी बेहतर हो रहा है। हम स्वच्छ और बेहतर पानी के लिए प्रयासरत हैं।

ट्रंप ने कहा कि चीन, रुस, भारत जैसे देशों में अच्छी हवा नहीं है ना ही अच्छा पानी है ये काफी प्रदूषित देश हैं। अगर आप इनमें से किसी शहर में जाते हैं तो आप ढंग से सांस भी नहीं ले पाते हैं। उन्हें अपनी जिम्मेदारी का एहसास नहीं है।

इससे पहले ट्रंप ने जलवायु परिवर्तन पर प्रिंस चार्ल्स के साथ मंगलवार को एक विस्तृत चर्चा की, जिसमें उन्होंने कहा कि चार्ल्स ने इस मुद्दे पर बेहद गंभीरता से बात की और मैं उनकी इस गंभीरता का मुरीद हो गया। इसके साथ ही ट्रंप ने कहा कि प्रिंस चार्ल्स को उन्होंने भी क्लाइमेट चेंज विषय पर कुछ सुझाव दिए।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को कहा कि वह जलवायु परिवर्तन से लड़ने को लेकर प्रिंस चार्ल्स के जज्बे से आश्चर्यचकित हैं। ट्रंप, प्रिंस चार्ल्स की इस बात से भी खासा प्रभावित हैं कि वह ऐसा विश्व चाहते हैं जो ‘भावी पीढियों के लिए अच्छा हो।’ ट्रंप ने 2016 में राष्ट्रपति बनने के बाद से पर्यावरण संबंधी नियमों को वापस लिया है और वह अमेरिका को पेरिस जलवायु संधि से भी बाहर कर चुके हैं।

ब्रिटेन दौरे पर ट्रंप ने क्वीन एलिजाबेथ, फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल, कनाडा प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रुडो जैसे ग्लोबल लीडर से
ही मुलाकात की।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
Support us to keep Lokbharat Live, Give a small Contribution of Rs.100 to Support Fearless & Fair Journalism
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें