ज्योतिरादित्य बोले ‘मंदिर बनवाना सिंधिया परिवार से सीखे बीजेपी’

जयुपर ब्यूरो। कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंदिर मुद्दे पर बीजेपी को नसीहत करते हुए कहा कि बीजेपी को मंदिर बनाना सिंधिया परिवार से सीखना चाहिए, जिसने बिना सांप्रदायिक तनाव फैलाए 60 मंदिरों का निर्माण मध्य प्रदेश के अलावा यूपी, राजस्थान और महाराष्ट्र में करवाया है।

अपने दो दिन के दौरे पर चुनाव प्रचार के लिए राजस्थान पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि राजनीति की धर्म में कभी भी दखलअंदाजी नहीं होनी चाहिए। धर्म और आस्था हर इंसान का व्यक्तिगत मामले हैं।

मंदिर मुद्दे पर ज्योतिरादित्य ने बीजेपी को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि बीजेपी सिर्फ मंदिर के मुद्दे पर राजनीति करने के लिए शोर मचाती है। बीजेपी पर तंज कसते हुए सिंधिया ने कहा, ”कसम गीता की, मंदिर हम वहीं बनवाएंगे पर तारीख नहीं बताएंगे।”

प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए सिंधिया ने कहा कि राजस्थान में राज्य के जनता की स्थिति हर क्षेत्र में बदतर है। कृषि के क्षेत्र में अनियमितता के कारण किसानों को भी काफी परेशानी हुई है। अनाज मंडियों में अनियमितता है, फसल बीमा का सही लाभ किसानों को नहीं मिल पाता।

उन्होंने किसानो के मुद्दे उठाते हुए कहा कि बिजली किसान को मिलती नहीं और किसानों को अनाप-सनाप बिजली बिल दी जाती है। ऋण माफी के मुद्दे पर भी बीजेपी सरकार पूरी तरह फेल हुई है। जिससे साफ पता चलता है कि बीजेपी की कथनी और करनी में काफी अंतर है।

युवाओं के मुद्दे पर बीजेपी सरकार को असफल बताते हुए सिंधिया ने कहा कि युवाओं के नाम पर सरकार बनाने वाली बीजेपी सरकार ने अपना वायदा पूरा नहीं किया। सिंधिया ने कहा कि बीजेपी सरकार ने पान,पकौड़े की दूकान लगवाने की बात कह कर युवाओं के साथ भी ठगी की।

अपने राजस्थान आने के कार्यक्रम को लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि उनके पिताजी स्व माधवराव सिंधिया ने राजस्थान में कांग्रेस महासचिव के रूप में काम किया था। इसलिए मैं जब भी राजस्थान आता हूं पार्टी के सामान्य कार्यकर्ता के रूप में अपना योगदान देने का प्रयास करता हूं।

उन्होंने यह भी कहा कि राजस्थान और देश का हर नागरिक सत्ता परिवर्तन के लिए उत्सुकता के साथ इंतजार कर रहा है। मुझे विश्वास है कि राजस्थान की जनता 7 दिसंबर को मतदान कर राज्य और देश को नवनिर्माण का संदेश देगा।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें