EVM बदलने के आरोपों का चुनाव आयोग ने दिया ये जवाब

नई दिल्ली। कल बिहार और उत्तर प्रदेश में ईवीएम को लेकर मची अफरातफरी के बाद चुनाव आयोग ने इस मामले में जबाव दिया है। सोमवार रात गाजीपुर में गठबंधन प्रत्याशी जहां धरने पर बैठ गए। वहीं, मऊ में पुलिस ने स्ट्रांग रूम के पास पहुंचे गठबंधन समर्थकों पर लाठियां भी बरसाईं थीं।

चुनाव आयोग ने ईवीएम बदले जाने की कोशिशों के आरोपों पर कहा कि ईवीएम पूरी तरह सुरक्षित हैं। उत्तर प्रदेश के सीईओ ने मंगलवार को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से लिखा ‘आपके वोट सीसीटीवी कवरेज और निगरानी के तहत सील ईवीएम कमरों में सुरक्षित हैं। ईवीएम को बदलने की कोई संभावना नहीं है। इसके लिए आप घबराएं नहीं और विश्वास रखें।’

ईवीएम पर हुए बवाल पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल वेंकटेश्वर लू ने कहा कि गाजीपुर, चंदौली, डुमरियागंज और झांसी में ईवीएम को लेकर जो आरोप लगाए गए, वह सही नहीं हैं। जिन ईवीएम का मतदान में इस्तेमाल हुआ है, वह पूरी तरह सुरक्षित हैं।

उन्होंने कहा कि गाजीपुर में कई दल के लोग स्ट्रांग रूम की निगरानी के लिए पांच लोगों की नियुक्ति की मांग कर रहे थे। उन्हें संतुष्ट कर दिया गया है। ऐसे ही चंदौली में रिजर्व ईवीएम को स्ट्रांग रूम लाया जा रहा था, जो लोगों को भ्रामक तरीके से बताई गई।

उन्होंने कहा कि झांसी में बहुत पुराना प्रकरण है, वहां का वीडियो 30 अप्रैल का है। इसमें भी भ्रामक खबर फैलाई गई। डुमरियागंज में 12 मई को चुनाव था, लेकिन 14 को अतिरिक्त ईवीएम को दूसरे जगह पर शिफ्ट किया जा रहा था। उस वीडियो को भी भ्रामक तरीके से फैलाया गया।

उन्होंने कहा कि जहां भी ईवीएम को लेकर सवाल उठाए जा रहे थे, वहां सभी दलों को संतुष्ट किया गया है। सभी जिलों के स्ट्रॉन्ग रूम की सुरक्षा बेहतर तरीके से की गई है। स्ट्रॉन्ग रूम पर केन्द्रीय सुरक्षा बल की 24 घंटे की तैनाती है। सभी चरणों में जो भी शिकायत थी, उसको निर्वाचन आयोग ने दूर किया है। उन्होंने अपील की कि किसी भी तरह की भ्रामक खबर न फैलाएं।

कई स्थानों पर ईवीएम बदलने के लगे थे आरोप:

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश और बिहार के कुछ स्थानों पर ईवीएम बदले जाने की कोशिशों वाले वीडियो वायरल हुए थे। मऊ जिले में ईवीएम को बदलने की अफवाह पर सोमवार रात साढ़े दस बजे मंडी परिषद में बने स्ट्रांगरूम पर पहुंचे सपा-बसपा गठबंधन प्रत्याशी के 50-60 समर्थकों के हंगामा काटा।

इतना ही नहीं गाज़ीपुर में ईवीएम बदले जाने का आरोप लगाते हुए सपा बसपा गठबंधन प्रत्याशी अफ़ज़ाल अंसारी अपने समर्थको के साथ धरने पर बैठ गए थे। इस दौरान सोशल मीडिया पर चार जिलों गाजीपुर, चंदौली, डुमरियागंज और झांसी का वीडियो वायरल हो रहा था, जिसे लेकर लोग आयोग पर भी सवाल उठाने लगे थे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें