9 माह बाद जेल से रिहा हुए हार्दिक का हीरो जैसा स्वागत

hardik-patel

अहमदाबाद। पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल को शुक्रवार को सूरत की लाजपोर जेल से सुबह 11 बजे रिहा कर दिया गया। 9 महीने तक जेल में रहे हार्दिक पटेल पर गुजरात में राजद्रोह और राष्ट्रदोह का आरोप है। उनकी रिहाई के समय जेल के बाहर भारी संख्या में समर्थक जमा थे और उनकी रिहाई के बाद वहीं जश्न मनाना शुरू कर दिया।

गुजरात में पाटीदारों को ओबीसी के तहत आरक्षण देने की मांग कर रही पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल जमानत पर छूटे हैं। उन्हें अगले 48 घंटों में गुजरात से बाहर जाना होगा क्योंकि हार्दिक पटेल को अदालत ने निर्देश दिया है कि वह छह माह तक राज्य में नहीं रह पाएंगे।

इस बीच मुख्‍यमंत्री आनंदीबेन पटेल व पाटीदार नेता हार्दिक पटेल शुक्रवार को सूरत में आमने-सामने होंगे। इससे पहले हार्दिक पटेल के वकीलों ने गुरुवार को लाजपोर जेल अधीक्षक को अहमदाबाद व विसनगर केस के दस्‍तावेज सौंप दिए। हार्दिक सूरत से अहमदाबाद तक रैली करेगा जबकि सभा की मंजूरी पुलिस ने रद्द कर दी है।

गुजरात में पाटीदारों को ओबीसी के तहत आरक्षण देने की मांग कर रही पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल करीब नौ माह जेल में रहकर शुक्रवार को जमानत पर छूट रहे हैं। हार्दिक की रिहाई को पाटीदार जश्‍न के रूप में मनाने की तैयारी कर रहे हैं।

सूरत में एक सभा का भी आयोजन किया गया था, जिसमें एक लाख पाटीदारों के आने की संभावना थी, लेकिन मुख्‍यमंत्री के यूनिवर्सिटी सभागार में कार्यक्रम के कारण पुलिस ने इसकी मंजूरी रद्द कर दी है, पाटीदार फिर भी रैली व रोड शो करने पर अड़े हैं। सूरत की अतिरिक्‍त पुलिस आयुक्‍त निपुणा तोरवणे ने बताया कि भारी संख्‍या में लोगों के आने के कारण एसआरपी की एक कंपनी बुलाई गई है, लेकिन अतिरिक्‍त पुलिस बल की जरूरत नहीं है।

हार्दिक के वकील दिलीप पटेल व रफीक लोखंडवाला ने गुरुवार को लाजपोर जेल अधीक्षक को अहमदाबाद व विसनगर केस संबंधी दस्‍तावेज व जमानत के कागजात सौंप दिए। उधर हार्दिक ने भी पत्र लिखकर पाटीदारों से अपील की है कि उनके स्‍वागत व रैली में शांत व कानून व्‍यवस्‍था बनाए रखें।

आंदोलन समिति कार्यकर्ताओं ने हार्दिक के स्‍वागत की जोरदार तैयारियां की है। हार्दिक के लिए दिल्‍ली से जूते मंगाए गए हैं, काठियावाड़ी कुर्ता व पायजामा पहनकर हार्दिक जेल से बाहर निकले। सूरत से करीब पांच सौ कारों के काफिले के साथ अहमदाबाद पहुंचेंगे। हार्दिक शनिवार को गांधीनगर पहूंचकर पूर्व मुख्‍यमंत्री केशुभाई पटेल से भी आशीर्वाद लेंगे। सेशंस कोर्ट में हाजिरी के बाद वे राजकोट माता उमिया धाम व खोडलधाम के दर्शन कर वीरमगाम अपने गांव के लिए रवाना होंगे। रविवार को हार्दिक गुजरात को छह माह के लिए छोड़ देंगे।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें