2019 के आम चुनाव के लिए पीएम मोदी के गढ़ से बिगुल फूंकेंगे राहुल गांधी

नई दिल्ली। 2019 के आम चुनावो की तैयारियों को अंतिम रूप दे रही कांग्रेस ने पार्टी संगठन में कई फेरबदल किये हैं। पार्टी संगठन को चुस्त दरुस्त बनाने के लिए कई राज्यों के प्रभारी भी बदले गए हैं।

2019 के आम चुनावो से पहले तीन अहम राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव होने हैं। इन राज्यो के विधानसभा चुनावो को 2019 का सेमी फाइनल माना जा रहा है।

ऐसे में 2019 के आम चुनावो के लिए प्रचार की शुरुआत करने के लिए कांग्रेस ने पीएम नरेंद्र मोदी का गृह राज्य गुजरात चुना है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस महीने पीएम मोदी के गढ़ से 2019 के लिए चुनावी बिगुल फूंकेंगे।

2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जल्द ही चुनाव प्रचार अभियान का आगाज 11 और 15 जुलाई को गुजरात राज्य के दौरे के साथ ही शुरू करेंगे।

इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सौराष्ट्र के जूनागढ़, राजकोट और भावनगर जिलों का दौरा करेंगे। इन क्षेत्रों में कांग्रेस ने लंबे समय बाद बेहतर प्रदर्शन किया और पिछले विधानसभा चुनाव में ज्यादातर सीटें कांग्रेस को इन्हीं इलाकों में मिलीं।

जानकारों की माने तो गुजरात में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की हुंकार का सन्देश गुजरात के पड़ौसी राज्य मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी जाएगा। गुजरात सहित उन तीनो राज्यों (मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान) में भी बीजेपी की सरकार हैं जहाँ इस वर्ष के अंत तक विधानसभा चुनाव होने हैं।

राहुल गांधी ने पिछले साल 2017 में विधानसभा चुनाव के दौरान भी राज्य में काफी दौरा किया था और चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन में सुधार के साथ 77 सीटें मिलने का श्रेय उनकी इन्हीं यात्राओं को दिया गया था।

अब 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को कड़ी टक्कर देने वाले राहुल गांधी यहां कांग्रेस को मजबूत करने के लिए भरपूर प्रयास करेंगे। हालांकि, प्रधानमंत्री मोदी के गढ़ में पार्टी की दशा सुधारना उनके लिए बड़ी चुनौती मानी जा रहा है। लेकिन पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी जैसे युवा नेताओं के मोदी-भाजपा विरोध ने राज्य के राजनीतिक समीकरण को काफी बदल दिया है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें