बड़ी खबर

हाय! अब जनधन योजना भी फेल

नई दिल्ली। यूनएन इन इंडिया के उद्घाटन के दौरान जन धन रेवोल्यूशन कान्क्लेव में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया कि प्रधानमंत्री जन धन योजना के अंतर्गत जीरो बैलेंस अकाउंट की संख्या में तेज़ी से गिरावट देखने को मिली है।

यह बीते तीन वर्षों के दौरान 77 फीसद से गिरकर 20 फीसद पर आ गए हैं। उन्होंने यहां पर कहा कि वंचित वर्गों के लिए खोले गए खातों की संख्या काफी बड़ी थी।

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि जन धन योजना से पहले तक करीब 42 फीसद परिवार बैंकिंग सेवाओं से दूर थे। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि नोटबंदी के बाद समाज में नकदी की संख्या में गिरावट देखने को मिली है।

जेटली ने यह भी बताया कि जनधन खातों के कारण बैंकों पर बोझ न बढ़े इसको देखते हुए भी सरकार ने कदम उठाए हैं। सभी जनधन खातों को रुपे कार्ड से जोड़ा गया है। साथ ही दो इंश्योरेंस योजनाओं को भी इस खातों के साथ जोड़ा गया है।

वित्त मंत्री ने कहा कि अब तक के सबसे बड़े बैंकिंग अभियान (जन-धन) के तहत देश के 30 करोड़ परिवारों को बीते तीन सालों के भीतर बैंक अकांउट की सुविधा दी गई। सितंबर 2014 को यानी जन धन योजना के लॉन्च होने के तीन महीने बाद 76.81 फीसद अकाउंट जीरो बैलेंस वाले थे। साथ ही उन्होंने कहा कि जन धन योजना के चलते 99.99 फीसद परिवारों के पास कम से कम एक बैंक खाता है।

Get Live News Updates Download Free Android App, Like our Page on Facebook, Follow us on Twitter and Google

Facebook

Copyright © 2017 Live Media Network

To Top