हनुमान को दलित बताकर फंसे योगी, ब्राह्मण महासभा ने भेजा नोटिस

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राम भक्त हनुमान को दलित बताकर फंसते दिखाई दे रहे हैं। राजस्थान में एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ द्वारा हनुमान को दलित बताये जाने पर राजस्थान ब्राह्मण सभा ने कड़ी आपत्ति ज़ाहिर की है।

योगी आदित्यनाथ के बयान पर नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए राजस्थान ब्राह्मण महासभा ने हनुमान जी को जाति में बांटने का आरोप लगाते हुए योगी आदित्यनाथ को कानूनी नोटिस भेजा है।

वहीँ दूसरी तरफ जहाँ बीजेपी ने योगी आदित्यनाथ के बयान से किनारा कर लिया है वहीँ योगी आदित्यनाथ के बयान पर कांग्रेस ने बीजेपी पर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि बीजेपी के लोग भगवान् को भी जातियों में बांटने की कोशिश कर रहे हैं।

गौरतलब है कि अलवर जिले के मालाखेड़ा में एक सभा को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने बजरंगबली को दलित, वनवासी, गिरवासी और वंचित करार दिया था। उन्होंने कहा कि बजरंगबली एक ऐसे लोक देवता हैं जो स्वयं वनवासी हैं, गिर वासी हैं, दलित हैं और वंचित हैं।

इतना ही नहीं योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चुनाव में राम भक्त बीजेपी को वोट दें और रावण भक्त कांग्रेस को वोट दें। वहीँ भरतपुर की एक चुनावी सभा में बोलते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बीजेपी औरंगजेब जैसे लोगों से रक्षा कर सकती है। राम राज्य लाने के लिए बीजेपी उम्मीदवार को जिताएं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें