सोनू निगम जैसे लोगों के लिए सबक है ये मिसाल

भोपाल। मध्य प्रदेश के एक गाँव में सांप्रदायिक सौहार्द की ऐसी मिसाल सामने आयी है कि अज़ान की आवाज़ पर आपत्ति करने वाले गायक सोनू निगम इस मिसाल से सबक ले सकते हैं।

मध्यप्रदेश के एक गांव में मंदिर का लाउड स्पीकर चोरी हो गया। गाँव का मंदिर होने के कारण इस मंदिर में गाँव के ही श्रद्धालु दर्शन और पूजा के लिए आते थे। इसलिए चढ़ावा इतना नहीं आता कि तुरंत नया लाउडस्पीकर ख़रीदा जा सकता। ऐसे में गांव के मुसलमानो ने मिलकर इस मंदिर को लाउडस्पीकर गिफ्ट ‌किया।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक मंदिर में लाउडस्पीकर दान करने के बाद स्थानीय नगर निगम और हरदा जिला वक्फ समिति के अध्यक्ष सईद खान ने कहा कि जब वे हरदा शहर के बाहरी इलाके के हनुमान मंदिर के पास से गुजर रहे थे, तो उन्हें लाउडस्पीकर की चोरी के बारे में पता चला था।

सईद खान ने बताया, ‘‘ पांच दिन पहले इस मंदिर से लाउडस्पीकर चोरी हो गया था। इसके बाद जब मैँ एक ‌दिन इस मंदिर के पास से जा रहा था, तो मैंने कोई भजन या भक्तिगीत की आवाज नहीं सुनी, जिससे मुझे बहुत बुरा महसूस हुआ।’’ सईद ने मंदिर के पुजारी से पूछा कि किसी ने नया लाउडस्पीकर लाकर दिया है क्या? तो पुजारी ने कहा, नहीं। और फिर हमने नया लाउडस्पीकर और एम्पलीफायर लाकर उन्हें गिफ्ट कर दिया।

इसके साथ ही, सईद ने लाउडस्पीकर को लेकर पिछले दिनों हुई चर्चा पर कहा कि अगर कुछ लोगों ने मस्जिदों और मंदिरों में लाउडस्पीकरों के उपयोग के बारे में विवादास्पद टिप्पणी की है, तो मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि भारत में लोगों ने कभी ऐसी चीजों का विरोध नहीं किया।

स्थानीय लोगों की माने तो इस गाँव में मस्जिद और मंदिर दोनो पर लाऊड स्पीकर लगे हैं लेकिन किसी को किसी से कोई आपत्ति नहीं है। बल्कि दोनो समुदाय के लोग एक दूसरे का सहयोग करते हैं।

 

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें