सोनिया गांधी के डिनर में जुटे 20 दलों के शीर्ष नेता, महागठबंधन पर हुई चर्चा

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी द्वारा विपक्षी दलों के लिए आयोजित किये गए रात्रि भोज कार्यक्रम में विपक्ष के 20 राजनैतिक दलों के नेताओं ने शिरकत की।

इस मौके पर विपक्ष ने नेताओं के साथ वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में विपक्षी दलों के गठजोड़ पर भी गहन चर्चा हुई। इसके अलावा पीएनबी बैंकिंग घोटाले पर सरकार से संसद में जवाब मांगने की रणनीति और महाराष्ट्र के किसानों के आंदोलन पर भी चर्चा हुई।

जैसे कि पहले से कयास लगाए जा रहे थे, दस जनपथ पर आयोजित रात्रि भोज में ममता बनर्जी, अखिलेश यादव तथा मायावती शामिल नहीं हुए। विपक्ष के नेताओं के बीच ममता बनर्जी, अखिलेश यादव तथा मायावती की अनुपस्थिति भी चर्चा का विषय रही। हालाँकि सपा, बसपा और तृणमूल कांग्रेस की तरफ से उनके प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि पार्टी का मानना है कि भाजपा जहां-जहां देश में दीवारें खड़ी करेगी, वहां कांग्रेस रास्ता बनाने का काम करेगी। इस आयोजन का लक्ष्य राजनीतिक नहीं, पारिवारिक सौहार्दपूर्ण माहौल में बातचीत जारी रखना है।

आज दस जनपथ पहुँचने वाले नेताओं में एनसीपी नेता शरद पवार, सपा से रामगोपाल यादव, भारतीय ट्राइबल पार्टी के शरद यादव, टीएमसी के सुदीप बंदोपाध्याय, आरजेडी से तेजस्वी यादव और मीसा भारती, हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के जीतनराम मांझी, जद सेकुलर के डॉ. कुपेंद्र रेड्डी, नेशनल कांफ्रेस के उमर अब्दुल्ला, झामुमो के हेमंत सोरेन, बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा, रालोद के अजित सिंह, भाकपा के डी.राजा, माकपा के मो. सलीम, डीएमके कनीमोझी, जेवीएम के बाबू लाल मरांडी, आरएसपी के रामचंद्रन, आईयूएमएल के कुट्टी, एआईयूडीएफ के बदरूद्दीन अजमल और केरल कांग्रेस के प्रतिनिधि शामिल हैं।

वहीँ कांग्रेस की ओर से सोनिया गांधी के अलावा पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, अहमद पटेल, एके एंटनी और रणदीप सिंह सुरजेवाला मौजूद थे।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें