सीबीआई: करोडो रुपये की घूंसखोरी में सामने आया पीएम मोदी के करीबी मंत्री का नाम

नई दिल्ली। सीबीआई में चल रहे विवाद में अब नया मोदी आ गया है। करोडो रुपये की घूंसखोरी के मामले में अब दो नए नाम जुड़ गए हैं। इनमे पहला नाम राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और दूसरा नाम पीएम मोदी के करीबी माने जाने वाले हरिभाई पार्थी भाई चौधरी का है।

हरिभाई पार्थी भाई चौधरी गुजरात से बीजेपी सांसद हैं और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े रहे हैं। उन्हें गुजरात का होने के नाते पीएम नरेंद्र मोदी का आशीर्वाद प्राप्त है और वे पीएम के करीबी माने जाते हैं। वे कोयला एवं खनन मंत्रालय का काम काज देख रहे हैं।

गौरतलब है सीबीआई के डीआईजी एमके सिन्हा ने अपने तबादले के मामला को लेकर सुप्रीमकोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा है कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल सीबीआई के काम में दखल देते थे और उन्होंने सीबीआई अधिकारी राकेश अस्थाना के आवास में की वाली तलाशी अभियान को भी रोकने के निर्देश दिए थे।

सिन्हा ने अपनी याचिका में शिकायतकर्ता सतीश बाबू के हवाले से ये आरोप भी लगाया है कि मोदी सरकार में मंत्री हरिभाई पार्थी भाई चौधरी को इस मामले में मदद करने के लिए करोडो रुपये की रिश्वत दी गयी थी।

गौरतलब है कि सीबीआई के डीआईजी मनीष कुमार सिन्हा (एमके सिन्हा) सीबीआई अधिकारी राकेश अस्थाना मामले की जांच कर रही टीम प्रमुख थे। राकेश अस्थाना के खिलाफ जांच के दौरान एम के सिन्हा का तबादला नागपुर कर दिया गया था और उन्होंने अपने तबादले के मामला को लेकर सुप्रीमकोर्ट में याचिका दाखिल की है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें