सीएम सामूहिक विवाह योजना: सात फेरे लेकर देखे थे हसीन सपने, अब लगा रहे ऑफिस के फेरे

ब्यूरो(राम मिश्रा,अमेठी)। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा राज्य में गरीब लड़कियों को लेकर एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया। जिसमे सीएम के इस महत्त्वाकांक्षी योजना के अंतर्गत सरकार अपने खर्च पर सामूहिक विवाह का आयोजन करवा रही है।

सीएम सामूहिक विवाह योजना का ऐलान होते ही सूबे के गरीब लड़कियों के परिजनों ने बड़ी राहत की साँस ली थी। विवाह के बाद मिलने वाली रकम के कारण बड़ी संख्या में लाभार्थी इस योजना से जुड़े भी, लेकिन अब कई गरीब लड़कियों के परिजनों का आरोप लगाया कि अभी तक विवाह की योजना की रकम लाभार्थियों के खाते में नहीं पहुंची जिसके कारण परेशानी हो रहे है। इतना ही नही अब गरीब लड़कियों के परिजन कर्ज के भयंकर भंवर में फसने की भी बात कह रहे है ।

आभूषण बर्तन आदि की गुणवत्ता को लेकर लाभार्थियों ने उठाये सवाल-

बता दे कि जिले कि मुसाफिरखाना विकासखण्ड में बीते 29 जनवरी को 30 लाभार्थियों का विवाह धूमधाम से मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत विवाह हुआ ।

इस दौरान लाभार्थियो को दिए बिछियां पायल, बर्तन,वस्त्र और उपहार की गुणवत्ता को लेकर लाभार्थियो के परिजनों द्वारा कई सवाल किए जिसके बाद जिम्मेदार बगल झांकने लगे थे ।

Picture: Lokbharat- Amethi

अब कार्यालय के फेरे लगा रहे लाभार्थी –

विवाह समारोह में शामिल रही लाभार्थी अनीसा निवासी पिंडारा बताती है कि विवाह के करीब चार माह बीतने के बाद भी रकम न मिलने से हम काफी परेशान है लाभार्थी सुमन की माँ जयनाथा और लाभार्थी सपना निवासी पिंडारा कहती है कि “वैवाहिक कार्यक्रम से पहले उन्हें बताया गया था कि जितने भी लाभार्थी विवाह करेंगे सबके खाते में रकम आएगी। 29 जनवरी को शादी समारोह के बाद ही लाभार्थी के खाते में रकम जमा की जाएगी, लेकिन अभी तक ये रकम नहीं आई है। हमने विवाहोपरान्त होने वाले खर्च के लिये काफी कर्ज ले रखा है रकम का इंतजार हमारी बेटी को बहुत बेसब्री से है अब हम लोग खण्ड विकास कार्यालय के फेरे लगाने को मजबूर है।”

लाभार्थी को ये मिलता है अनुदान –

बता दे की सीएम सामूहिक विवाह योजना के अंतर्गत प्रत्येक लाभार्थी को 35 हजार रूपये का अनुदान दिया जाता है। इसमें बीस हजार रुपये कन्या के खाते में बीस हजार रुपए और दस हजार रुपए बिछियां, पायल, बर्तन, वस्त्र और उपहार पर खर्च किये जाते हैं एवं पांच हजार रुपये में पंडाल आदि के लिए खर्च अधिकृत निकायों को दिया जाता है ।

राशि मिल जायेगी- समाज कल्याण विभाग

समाज कल्याण अधिकारी मुसाफिरखाना अम्बरीष मिश्र ने बताया कि लाभार्थियों के खाते में रकम डाली जा रही है कुछ लाभार्थियों के खाते नाम आदि में गड़बड़ी की वजह से रकम नही गई बचे हुए लाभार्थियों के खाते में रकम डाली जाएगी लाभार्थियों को शीघ्र ही राशि मिल जाएगी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें