सीएम ममता बनर्जी ने बीजेपी को किया उसी के एजेंडे से धराशाही

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में जहाँ बीजेपी अपने हिंदुत्व के एजेंडे को लेकर राज्य में जगह बनाने की कोशिश में जुटी हैं, वही राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बीजेपी को उसी के एजेंडे से धराशाही कर रही हैं।

हिन्दुओं में कुम्भ के बाद सबसे बड़ा मेला माने जाने वाले गंगासागर मेले को टैक्स फ्री करने की घोषणा करके ममता बनर्जी ने बीजेपी को उसी के जाल में उलझा दिया है। इतना ही नहीं मेले की तैयारियों का जायजा लेने स्वयं सीएम ममता बनर्जी मौके पर पहुंची थी।

आउट्राम घाट में गंगासागर मेला शिविरों के लिए सरकारी सुविधाओं का जायजा लेने पहुंचीं मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगासागर मेला देश के महत्वपूर्ण मेलों में से एक है। यहां उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान के साथ सभी प्रांतों से तीर्थयात्री आते हैं। पश्चिम बंगाल सरकार की तरफ से मैं आप सभी का स्वागत करती हूं। आप के आगमन से हम धन्य हुए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ के बाद गंगासागर मेला सबसे बड़ा तीर्थ माना जाता है. कुंभ मेले को केंद्र सरकार तो आर्थिक सहायता देती है लेकिन गंगासागर मेले के लिए केंद्र सरकार एक पैसा पश्चिम बंगाल को नहीं देती है।

उन्होंने कहा कि सागर मेले में आज जितनी भी व्यवस्थाएं की गयी हैं राज्य सरकार ने खुद अपने बल पर किया है। मुख्यमंत्री ने कहा: 20-30 लाख लोगों को नदी पार कराकर सागर मेले तक सुरक्षित ले जाना कोई आसान काम नहीं है।

ममता बनर्जी ने कहा कि हमारी पुलिस, नगर निगम, जिला प्रशासन और एनजीओ के संयुक्त प्रयास से हम लोगों को सागरमेला तक पहुंचाते हैं और फिर वापस उनकी मंजिल के लिए विदा करते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने सागर मेला व कपिल मुनि आश्राम का कई बार दौरा किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस राज्य में विवेकानंद जैस महापुरुष पैदा लिए हों जिन्होंने सभी धर्मों से प्यार व भाई-चारे का संदेश दिया उसे हिंदू-मुस्लिम और सिख-इसाई के नाम पर बांटने की राजनीति नहीं चलेगी. मेरा तो मानना है कि सभी को एक साथ लेकर चलने का विचार ही धर्म की सबसे बड़ी पवित्रता है।

ममता बनर्जी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का काम है झगड़ा लगाना. वह गंगासागर मेले में भी दंगा की राजनीति करना चाहती है। उन्होंने कहा कि मैं न ऐसी राजनीति को पसंद करती हूं और न राज्य में ऐसी राजनीति को होने दूंगी।

उन्होंने कहा कि ऐसे लोग विवेकानंद के नाम पर दंगा तो करना चाहते हैं लेकिन उन्हें नहीं पता कि वह तो सभी धर्मोंं की एकता और भाईचारे की बात करते थे।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि केंद्र सरकार सभी को धमका रही है. स्थिति यह है कि जो केंद्र सरकार के खिलाफ बोलता है उसके खिलाफ मामला दर्ज करा दिया जाता है। लेकिन मैं किसी से डरती नहीं क्योंकि मैं जानती हूं कि जो डरते हैं वह मरते हैं लेकिन जो करते हैं वह लड़ते हैं। मेरे सामने लाख बाधा उत्पन्न हो लेकिन मैं लड़ते-लड़ते काम करती रहूंगी।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें