सर्जिकल स्ट्राइक में सीमा पार कर भारतीय सेना ने मार गिराए आतंकी

नई दिल्‍ली। उरी हमले के बाद से ही पूरे देश में पाकिस्‍तान के खिलाफ जिस एक्‍शन की उम्‍मीद की जा रही थी वो शुरू हो गया है। बुधवार देर रात भारतीय सेना ने पाकिस्‍तानी सीमा में घुसकर आतंक के अड्डों को ध्‍वस्‍त किया है। वहीं पाकिस्तान सेना ने एक बयान जारी करके कहा है कि कल रात एलओसी पर हुई फायरिंग में दो पाकिस्तानी सैनिक मारे गए।

इस बारे में जानकारी देते हुए रक्षा मंत्रालय और विदेश मंत्रालय की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस को संबोधित करते हुए डीजीएमओ रणबीर सिंह ने बताया कि बुधवार देर रात भारतीय सेना ने सर्जिकल स्‍ट्राइक करते हुए हमले के लिए तैयार आतंकियों को मार गिराया है।

उन्‍होंने कहा कि इस साल 20 घुसपैठ की कोशिशे भारतीय सेना ने नाकाम की हैं। इस दौरान हमने कई सामान जिनमें जीपीएस और अन्‍य चीजें थीं हमने जब्‍त की। हमने पाकिस्‍तान के उच्‍च स्‍तर तक इसके सबूत दिए। इस मुद्दे को हमने पाकिस्‍तान के सामने उठाया। हमने उन्‍हें इन आतंकियों को काउंसलर एक्‍सेस देने का भी ऑफर दिया।

इसके बाद कल रात हमें विश्‍वस्‍त और महत्‍वपूर्ण सूचना मिली थी कि कुछ आतंकी पाक सीमा में बने लॉन्‍चपैड पर मौजूद थे और घुसपैठ के लिए तैयार थे। सूचना थी कि वो भारत के महत्‍वपूर्ण स्‍थानों पर हमले कर सकते है।

इसके बाद हमारी सेना ने हमने चिन्हित जगहों पर सर्जिकल ऑपरेशन किया ताकि आतंकी अपने मंसूबों में कामयाब ना हो सकें। इस आतंक विरोधी अभियान में आतंकी और उनकी मदद करने वालों को नुकसान पहुंचा। भारत ने इस सर्जिकल ऑपरेशन को खत्‍म कर दिया है और इसे आगे जारी रखने का कोई इरादा नहीं है। यह भारत की सोच है कि इलाके में शांति रहे लेकिन हम आतंक‍ियों को घुसपैठ करने नहीं दे सकते। हम किसी भी तरह से आतंकियों को हमारे देश और देश के लोगों को नुकसान नहीं करने दे सकते।

उन्होंने कहा कि, ‘भारत ने कल रात नियंत्रण रेखा के पार सर्जिकल हमला किया। हमने पाकिस्तान या पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के आतंकियों को गिरफ्तार भी किया है जिन्होंने हमें बताया कि उन्हें पाकिस्तान में प्रशिक्षण मिला था। कल पक्की जानकारी मिलने पर कि कुछ आतंकवादी नियंत्रण रेखा पर इकट्ठे हुए थे ताकि वो जम्मू-कश्मीर या भारत के महत्वपूर्ण शहरों पर हमला कर सकें।

हमने उन आतंकियों के लॉन्च पैड पर सर्जिकल हमला किया और कई आतंकियों को मार गिराया। इन ऑपरेशन को रोक दिया गया है क्योंकि इनका उद्देश्य आतंकियों को मार गिराना था। मैंने पाकिस्तानी डीजीएमसी को फोन करके अपनी चिंता साझा की और कल रात किे सर्जिकल हमले की भी जानकारी दी।’

इस बड़ी घोषणा से पहले पीएम मोदी ने केंद्रीय सुरक्षा समिती की महत्‍वपूर्ण बैठक बुलाई। इस बैठक में गृह मंत्री राजनाथ सिंह के अलावा रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, वित्‍त मंत्री अरुण जेटली, सेना प्रमुख दलबीर सुहाग, विदेश सचिव और अन्‍य अधिकारी मौजूद थे।

पाकिस्‍तान की प्रतिक्रिया:

पाकिस्तानी सेना के मुताबिक़ नियंत्रण रेखा पर ‘बिना किसी उकसावे के’ भारत की तरफ़ से भिम्बर, हॉट स्प्रिंग, केल और लीपा सेक्टरों में फ़ायरिंग हुई।’ पाकिस्तानी सेना ने कहा है कि “भारत की ओर से कोई सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई है, ये सीमा पार से फायरिंग थी जो पहले भी होती रही है।” पाकिस्तानी सेना की ओर से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया है कि “अगर पाकिस्तान की ज़मीन पर कोई सर्जिकल स्ट्राइक हुई तो उसका कड़ा जवाब दिया जाएगा।”

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *