यशवंत सिन्हा बोले ‘सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो की कराई जाए जांच’

नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा ने सेना द्वारा पाक सीमा में घुसकर किये गए सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो पर सवाल उठाते हुए उक्त वीडियो की जांच की मांग की है।

एक न्यूज़ चैनल से बात करते हुए यशवंत सिन्हा ने कहा कि, ‘मैं इस मामले में जांच की मांग करता हूं। सरकार को इसकी जांच-पड़ताल शुरू करनी चाहिए। यह वीडियो गोपनीय है और यह सिर्फ सरकार के पास हो सकती है लेकिन किस सूत्र ने किस मकसद से इसे जारी किया है। इसकी पड़ताल जरूरी है।’

उन्होंने कहा कि ‘सरकार को आधिकारिक तौर पर या खुद ही जारी करना चाहिए था, मगर दो साल बाद इस वीडियो का लीक किया जाना सवाल खड़े करता है। इससे नए सिरे से बहस और विवाद पैदा हो गया है। इसका (सर्जिकल स्ट्राइक) का सबूत अभी क्यों सामने आया है।’

यशवंत सिन्हा ने कहा कि इतने दिनों बाद वीडियो सामने आने से जाहिर है लोकसभा चुनाव 2019 में लाभ लेने की नीयत से इसे जारी किया गया है। उन्होंने कहा कि वे सर्जिकल स्ट्राइक की वैधता पर सवाल नहीं उठा रहे लेकिन वीडियो को लीक किए जाने पर सवाल किया जाना चाहिए।

यशवंत सिन्हा ने सर्जिकल स्ट्राइक पर बीजेपी नेता अरुण शौरी के बयान का समर्थन करते हुए कहा कि जो भी सर्जिकल स्ट्राइक की तह में जाना चाहता है उसका बीजेपी विरोध करती है, उसे देशद्रोही करार दे दिया जाता है। उन्होंने कहा कि सेना भी कह चुकी है कि उसके काम पर राजनीति नहीं किया जाना चाहिए।

यशवंत सिन्हा ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक कोई पहली बार नहीं हुआ है, पिछली सरकारों में भी सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक किये हैं लेकिन कभी किसी सरकार ने इसे इस तरह से सार्वजनिक तौर पर प्रचारित नहीं किया गया है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें