‘संविधान से स्वाभिमान यात्रा’ का आयोजन करेगी कांग्रेस

नई दिल्ली। कांग्रेस ने इस वर्ष तीन अहम राज्यों महाराष्ट्र, झारखंड और हरियाणा में होने जा रहे विधानसभा चुनावो की तैयारी जोर शोर से शुरू कर दी है। दलित मतदाताओं को पार्टी की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए पार्टी बड़े स्तर पर एक यात्रा का आयोजन करने जा रही है। इसका नाम ‘संविधान से स्वाभिमान यात्रा’ रखा गया है।

हाल ही में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेस के अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के नेताओं से मुलाकात के बाद ‘संविधान से स्वाभिमान यात्रा’ के आयोजन को हरी झंडी दे दी है।

इतना ही नहीं विधानसभा चुनाव में अनुसूचित जाति और जन जातियों के मतदाताओं को लामबंद करने के लिए पार्टी हर विधानसभा में अनुसूचित जाति के समन्वयकों की नियुक्ति करेगी।

कांग्रेस के अनुसूचित जाति विभाग के प्रमुख नितिन राउत ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद कहा कि दलित समाज को पार्टी से जोड़ने के लिए बड़े स्तर पर प्रयास शुरू किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसी क्रम में विधानसभा स्तर पर समन्वयक की नियुक्ति और ‘संविधान से स्वाभिमान यात्रा’ का आयोजन शामिल है।

उन्होंने कहा कि हर राज्य में सुरक्षित सीटों पर पार्टी अन्य सीटों की तरह ही अपना दमखम दिखाएगी। गौरतलब है कि महाराष्ट्र में 29 सीटें, हरियाणा में 17 सीटें और झारखंड में 9 विधानसभा सीटें अनसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं। वहीँ महाराष्ट्र में दलित मतदाताओं की संख्या करीब 13 फीसदी, हरियाणा में 21 फीसदी और झारखंड में 10 फीसदी से अधिक है।

ऐसे में माना जा रहा है कि चुनावी प्रदेशो में कांग्रेस एक बार फिर अपने परम्परागत दलित मतदाताओं की तरफ रुख कर रही है। कभी कांग्रेस का कोर मतदाता रहे दलित समुदाय के मतदाता क्षेत्रीय पार्टियों में बंटने से कांग्रेस के वोट बैंक में कमी आयी है। अब पार्टी एक बार फिर अपनी पुरानी लय में वापस लौटने की कोशिश कर रही है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें