शशि थरूर ने रखा बीजेपी की दुखती रग पर हाथ, अब बीजेपी को दी ये सलाह

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता शशि थरूर अपने कल के हिन्दू पाकिस्तान वाले बयान पर कायम हैं। बीजेपी के प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद शशि थरूर ने कहा कि अगर भाजपा हिंदू राष्ट्र की धारणा में विश्वास नहीं करती है तो वह आधिकारिक तौर पर यह कह दे कि हम हिंदू राष्ट्र में विश्वास नहीं करते हैं, बल्कि एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र में विश्वास करते हैं। इससे बहस खत्म हो जाएगी।

गौरतलब है कि कल शशि थरूर ने तिरुवनंतपुरम में एक सभा को सम्बोधित करते हुए कहा था कि 2019 में बीजेपी जीती तो संविधान को तहस नहस कर देगी और एक ऐसे संविधान का निर्माण करेगी जो सिर्फ हिंदू राष्ट्र के हितों की रक्षा करेगी।

उन्होंने कहा था कि हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए बीजेपी को लोकसभा और राज्यसभा में बहुमत चाहिए। राज्यसभा में फिलहाल बीजेपी के पास बहुमत नहीं है लेकिन आने वाले समय में राज्यसभा में भी बीजेपी का बहुमत हो जाएगा। राज्यसभा में बहुमत हासिल करने के बाद बीजेपी हिंदू राष्ट्र के एजेंडे पर बढ़ेगी।

शशि थरूर के बयान पर बीजेपी ने अपना विरोध जताते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से आधिकारिक तौर पर स्पष्टीकरण की मांग की। थरूर ने अपने कल के बयान को आज भी दोहराया और कहा कि वे इस पर कायम हैं।

वहीँ कांग्रेस ने शशि थरूर के बयान को उनका निजी बयान बताया है। कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि हमारा राष्ट्र सभी को अपना मानता है। हालाँकि प्रियंका चतुर्वेदी ने साथ ही यह भी कहा कि भाजपा-आरएसएस अपनी विचारधारा थोपना चाहते हैं, जिसे देश खारिज देगा।

वहीँ कांग्रेस नेता और छत्तीसगढ़ के प्रभारी पीएल पुनिया ने शशि थरूर के बयान पर कहा कि इसका स्पष्टीकरण थरूर ही दे सकते हैं कि उन्होंने किस परिपेक्ष में यह बात कही है। उन्होंने कहा कि यह सच्चाई है कि बीजेपी और संघ के लोग संविधान के मूलभूत रूप में परिवर्तन किये जाने की बात करते रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो संविधान आज तक चला आ रहा है वह बीजेपी आरएसएस को स्वीकार नहीं है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें