वृक्षरोपण महाकुंभ: अमेठी में लगाये गए 35 लाख से अधिक पौधे, स्मृति ईरानी ने दी बधाई

ब्यूरो (राम मिश्रा,अमेठी): हम भारत के लोग आज आजाद फिजा में सांस ले रहे हैं। इस आजादी के लिए बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है कई आंदोलन हुए हैं, जिनमें से एक ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन भी था। इस आंदोलन ने भारत से अंग्रेजों के जाने की बुनियाद रखी। ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन का प्रस्ताव 8 अगस्त, 1942 को ही पास किया गया था भारत छोड़ो आंदोलन की।

77वीं वर्षगांठ पर वृक्षारोपण महाकुंभ के अंतर्गत शुक्रवार को एक दिन में यूपी में करोडों पौधे रोपे गये। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में भी भव्य वृक्षारोपण महाकुंभ का आयोजन किया गया।

बता दे कि जिले के मुसाफिरखाना विकासखण्ड अंतर्गत नारा अढ़नपुर गाँव में गोमती नदी के तट पर स्थित गांधी उपवन के चयनित भूमि पर जिले की नोडल अधिकारी डिम्पल वर्मा व अमेठी जिलाधिकारी प्रशान्त शर्मा ने यहाँ मौलि श्री वृक्ष का रोपण कर महा कुम्भ की शुरुआत की। वृक्षारोपण के इस कार्यक्रम में अमेठी विधायक रानी गरिमा सिंह,पूर्व विधायक तेज भान सिंह व कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे तिलोई विधायक मयंकेश्वरशरण सिंह ने भी पौधरोपण कर अपने विचार भी किये । वही कार्यक्रम के दौरान स्कूली बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी पेश किया गया।

अमेठी विधायक गरिमा सिंह ने कार्यक्रम में आये स्थानीय लोगों व स्कूली बच्चों को सम्बोधित करते हुए कहा कि वृक्ष हमारे लिए जीवन दायक हैं। यदि हमें अपने वातावरण को स्वच्छ करना है और उज्जवल भविष्य का निर्माण करना है तो वृक्षारोपण को अपने जीवन का अंग मानते हुए अधिक से अधिक वृक्ष लगाएं।

वही पूर्व विधायक तेज भान सिंह ने इस अवसर पर वृक्षों का पौराणिक महत्व बताते हुए कहा कि एक वृक्ष का रोपण 10 पुत्रों के बराबर होता है। उन्होंने कहा कि वृक्षारोपण एक पुण्य कार्य है और इसमें सभी की सहभागिता एक सहरानीय कार्य है। आप लोग अपने घर के आसपास खाली अपनी जगह पर अवश्य पौधे लगाएं, जिससे हमारे देश में बढ़ रहे प्रदूषण की समस्या से भी निजात पायी जा सके।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि तिलोई से विधायक मयंकेश्वर शरण सिंह ने कहा कि पौधे लगाना नेक कार्य है। हर व्यक्ति को अपने आसपास पौधे अनिवार्य रूप से लगाना चाहिए और उसकी देखभाल करने का संकल्प लेना चाहिए।

कार्यक्रम के अंत मे अमेठी जिलाधिकारी प्रशान्त शर्मा ने वृक्ष बचेंगे तभी धरती पर जीवन बचेगा इस बात को हम सभी को गंभीरता से समझ लेना चाहिए अन्यथा मानव प्रजाति एक इतिहास बनकर रह जायेगा। हम सभी को अपने जीवनकाल में पौधरोपण पौध संरक्षण करना ही होगा।

जिलाधिकारी ने कहा कि “दरख़्तों पर शहर सोए हुए हैं ज़मीं पर है परिंदों का बसेरा”। उन्होंने वृक्षारोपण करते हुए कहा कि असली सवाल इन पौधों की देखरेख का है इन्हें बड़े होने तक संभालने का है। जो सबकी ज़िम्मेदारी है जिला अधिकारी ने उक्त मौके पर ड्रोन को ऑपरेट किया ।

वही केंद्रीय मंत्री और अमेठी सांसद स्मृति ईरानी ने अमेठी डीएम और उनकी पूरी टीम को इस कार्य के लिए ट्वीटर के माध्यम से बधाई दी है। बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार इस कार्यक्रम को पूरा करने के बाद इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराने की कोशिश में है, और यही कारण है कि, इस कार्यक्रम की सफलता के लिए सरकार सरकार द्वारा बड़े पैमाने पर तैयारियां भी की गई ।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें