विहिप-विधार्थी परिषद की तिरंगा यात्रा से भड़का दंगा, लगे थे मुस्लिम विरोधी नारे

कासगंज। उत्तर प्रदेश के कासगंज में गणतंत्र दिवस के मौके पर अखिल भारतीय विधार्थी परिषद और विश्व हिन्दू परिषद द्वारा संयुक्त रूप से निकाली गयी तिरंगा यात्रा के दौरान दो समुदायों के बीच भड़के दंगे में एक व्यक्ति की मौत के बाद अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगा दिया गया है।

मथुरा-बरेली हाइवे के निकट बलराम गेट चौराहे पर विश्व हिंदू परिषद और ए बी वी पी के कार्यकर्ता बाइक रैली निकाल रहे थे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार रैली में शामिल कुछ लोगों ने मुस्लिम विरोधी नारे लगाये। जिसका एक समुदाय के लोगों ने विरोध किया तो रैली में शामिल लोगों ने और अधिक उग्रता दिखाते हुए नारे लगाए और एक समुदाय के लोगों के घरो पर पथराव शुरू कर दिया। जिसके चलते दो समुदायों के लोग आमने आमने आ गए और पहले दोनो तरफ से पथराव हुआ।

स्थानीय लोगों के अनुसार मामला इतना बढ़ गया कि दोनो तरफ से फायरिंग भी हुई। इस भिडंत के दौरान एक की मौत हो गई साथ ही कई लोग घायल हो गए । कई वाहनों को भी फूंक दिया गया, जबकि हिंसा में कई गाड़‍ियां क्षतिग्रस्‍त हो गई हैं।

घटना के बाद हिंदूवादी कार्यकर्ताओं ने कोतवाली का घेराव कर आरोपियों की गिरफ्तारी और पीड़ित परिवार को मुआवजा देने की मांग की है। शहर में कई जगहों पर पत्थरबाजी की घटनाएं हुई।

वहीँ थोड़ी ही देर में हिंदूवादी संगठनों ने शहर भर के बाजार बंद करा दिए। लोग सड़कों पर उतरकर घटना पर आक्रोश जताने लगे। कई स्थानों पर उपद्रवियों ने आगजनी की नाकाम कोशिशें की और पत्थरबाजी की घटनाएं हुई हैं। हालांकि पुलिस ने अब इन घटनाओं पर काबू पा लिया। अराजक तत्वों को नियत्रिंत करने को पुलिस ने लाठियां भी भांजी हैं।

युवक की मौत की सूचना पर सांसद राजवीर सिंह राजू भइया, भाजपा के कई विधायक मौके पर पहुंच गए। मुख्यमंत्री व अन्य सरकारी अफसरों को घटनाक्रम से अवगत कराया गया। प्रशासन ने स्थिति को काबू करने के लिए पीएसी व पुलिस बल की तैनाती शहर भर में कर दी है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें