लोकसभा में पीएम मोदी: कांग्रेस और 70 साल के शासन के इर्दगिर्द घूमता रहा भाषण

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब देते हुए विपक्ष पर तीखे हमले किए। उन्होंने कहा कि 2014 में तीस साल बाद देश में पूर्ण बहुमत की सरकार बनी। देश के लोग मिलावटी सरकार को भोग चुके हैं। अब तो ‘महामिलावट’ है।

उन्होंने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि ये लोग कोलकाता में एक साथ आते हैं लेकिन केरल में एक-दूसरे का मुंह नहीं देखते। देश के लोग इस ‘महामिलावट’ से दूर ही रहेंगे। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले बैंकों में नामदार के फोन चले जाते थे और जनता के पैसे लोग निकाल रहे थे।

पीएम मोदी ने कहा कि कुछ दल अपने को सबसे ऊपर मानते हैं और इसी की वजह से सभी संस्थाओं का अपमान करते हैं। मैं तो गांधीजी का सपना पूरा कर रहा हूं, कांग्रेस मुक्त भारत हमारा सपना नहीं है, उन्होंने ही कांग्रेस मुक्त भारत की बात कही थी।

उन्होंने कहा कि सदन में महंगाई को लेकर सच्चाई से परे बातें हुईं। महंगाई पर जो गाने पॉपुलर हुए तब दोनों ही बार कांग्रेस की सरकार थी। एक बार इंदिरा सरकार और दूसरी बार रिमोट कंट्रोल वाली सरकार थी। जब-जब कांग्रेस सत्ता में आई है तब-तब महंगाई बढ़ी है।

संस्थाओं को बर्बाद करने के विपक्ष के आरोपों के जवाब में प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘उलटा चोर चौकीदार को डांटे’। उन्होंने कहा, “मोदी की आलोचना कीजिए, सरकार की नीतियों की आलोचना कीजिए। लेकिन, आलोचना करते-करते देश की बुराई की जाने लगी है।”

उन्होंने कहा कि आपातकाल लगाने वाले, सेनाध्यक्ष को गुंडा कहने वाला, चुनाव आयोग और न्यायपालिका पर सवाल उठाने वाले तथा पचास बार चुनी हुई सरकारों को गिराने वाले हम पर संस्थाओं को बर्बाद करने का आरोप लगा रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि ईमानदारी, पारदर्शिता और गरीबों के प्रति संवेदना ही उनकी सरकार की पहचान है। उन्होंने कहा कि यह सत्ता भोग वाली नहीं, सेवा भाव की सरकार है। हम चुनौतियों से नहीं भागते और लोगों में नए विश्वास और उम्मीदों का संचार कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस दावा करती है कि उसके जमाने में भी सर्जिकल स्ट्राइक होते थे। कांग्रेस की सरकार ऐसा करने की सोच भी नहीं सकती थी। उन्होंने कहा कि 2009 में सेना ने डेढ़ लाख बुलेट प्रूफ जैकेट की मांग की थी। लेकिन, यूपीए सरकार ने इसे पूरा नहीं किया। 2016 में हमने 50 हजार बुलेट प्रूफ की खरीद की, बाकी के बुलेट प्रूफ 2018 में उपलब्ध करा दिए।

पीएम मोदी ने कहा, “आपने सेना को निहत्था बनाकर रख दिया था। बुलेट प्रूफ जैकेट तक उपलब्ध नहीं थे। न कम्यूनिकेशन के लिए सही उपकरण थे। न हेलमेट थे और न अच्छी क्वालिटी के जूते।”

राफेल डील को लेकर विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि एक-एक आरोप का जवाब रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने भी इस पर फैसला दिया है। कांग्रेस पार्टी नहीं चाहती कि देश की सेना मजबूत हो।

उन्होंने कहा, “इनके 55 सालों के शासन में कोई भी रक्षा सौदा बिना किसी दलाली के नहीं हुआ था। अब पारदर्शिता के साथ सौदे हो रहे हैं। इसलिए आत्मविश्वास के साथ झूठ बोले जा रहे हैं। 3-3 राजदारों को बाहर से लाया गया है। अब इन्हें चिंता हो रही है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में पिछले साढ़े चार सालों में काफी उछाल आया है। उन्होंने कहा कि महंगाई और कांग्रेस का अटूट नाता है। जब भी कांग्रेस आई, महंगाई बढ़ी है। बीते 55 महीने में महंगाई दर को चार प्रतिशत के भीतर बांध कर रखा गया है।

पीएम मोदी ने कहा कि पहले बैंकों में नामदार के फोन चले जाते थे और जनता के पैसे लोग निकाल रहे थे। आजादी के बाद बैंकों ने 2008 तक कुल 18 लाख करोड़ का कर्ज दिया। लेकिन 2008 से 2014 के बीच 6 साल में यह 18 लाख करोड़ रुपये से बढ़कर 52 लाख करोड़ रुपये हो गया। ये लोगों के पैसे थे जो लूटे जा रहे थे। हमने ऐसे कानून बनाए जिसके कारण अब ये पैसे वसूले जा रहे हैं।

विजय माल्या के एक ट्वीट का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, “जो लोग भाग गए हैं, वह सुबह उठकर ट्विटर पर रो रहे हैं कि हम 9,000 करोड़ लेकर भागे थे, हमारी 13,000 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त हो गई है। आपने (कांग्रेस) लोगों को लूटने दिया, हमने उसके खिलाफ कानून बनाया।”

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें