लालू के लिए आज कत्ल की रात, क्या फॉर्मूला 2 पर बनेगी बात ?

नई दिल्ली। नीतीश कुमार के इस्तीफे के बाद लालू यादव ने नीतीश कुमार, पीएम मोदी और बीजेपी पर कड़े प्रहार किये। लालू ने नीतीश के इस्तीफे को पहले से तय बताया। उन्होंने नीतीश कुमार पर बीजेपी और आरएसएस से मिले होने का आरोप भी लगाया।

लालू यादव राजनीति के मंजे हुए खिलाडी हैं। इसलिए यह कहना ठीक नहीं होगा कि लालू को नीतीश के इस्तीफे की पहले से खबर नहीं थी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अब से दो दिन पहले ही लालू को यह जानकारी मिल चुकी थी कि तेजस्वी के इस्तीफा न देने की शक्ल में नीतीश कोई दांव ज़रूर खेलेंगे।

सूत्रों ने कहा कि अब से दो दिन पहले दिल्ली पहुंचे नीतीश कुमार की पीएम मोदी से मुलाकात के बाद ही लालू ने यह मान लिया था कि नीतीश कुमार और पीएम मोदी की मुलाकात के बाद बिहार की राजनीती में बड़ा भूचाल आने वाला है। सूत्रों ने कहा कि खतरे के अंदेशे को भांपते हुए लालू ने अपने विकल्प बैठना शुरू कर दिए थे।

सूत्रों ने यह भी कहा कि जब नीतीश कुमार दिल्ली में पीएम मोदी से मुलाकात कर रहे थे इस दौरान लालू जदयू के कुछ विधायकों से सम्पर्क साध रहे थे। सूत्रों ने कहा कि लालू यादव जानते थे कि दिल्ली से आने के बाद नीतीश या तो उनके बेटे तेजस्वी यादव को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करेंगे या स्वयं कुर्सी छोड़ देंगे।

सूत्रों ने बताया कि जदयू के करीब 20 विधायक लालू के सम्पर्क में हैं लेकिन यह कह पाना अभी मुश्किल होगा कि ये विधायक जदयू से बगावत कर लालू के समर्थन में आएंगे या नहीं। सम्भावना है कि यह फैसला आज देर रात तक हो जाएगा।

राजद सूत्रों की माने तो बिहार में नीतीश और जदयू के बिना सरकार बनाना लालू यादव की प्रतिष्ठा का सवाल है। इसलिए जदयू या बीजेपी में तोड़फोड़ की कोशिश से भी इंकार नहीं किया जा सकता। फिलहाल नीतीश के इस्तीफे के बाद लालू ने नीतीश पर चल रहे 302 और 307 के मुकदमे का ज़िक्र छेड़कर यह तो बता ही दिया कि नीतीश कुमार खुद भी दागी है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें