लगातार दो बार चुनाव हार चुके लोगों को टिकिट नहीं देगी कांग्रेस, नए चेहरों पर लगाएगी दांव

नई दिल्ली। दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय 24 अकबर रोड पर आयोजित कांग्रेस महासचिवो, प्रदेश के प्रभारियों और कांग्रेस संसदीय दल के सदस्यों के साथ हुई बैठक में तय किया गया है कि इस बार आम चुनाव में पार्टी उन लोगों को टिकिट देने से परहेज करेगी जो लगातार दो या उससे अधिक बार लोकसभा चुनाव हार चुके हैं।

गुरूवार को हुई बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने साफ़ शब्दों में कहा कि जहाँ पिछले चुनावो में कांग्रेस उम्मीदवारों की हार हुई है वहां नए चेहरों को मौका दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी का लोकसभा चुनाव में मुख्य फोकस ‘युवा और अनुभव’ पर रहेगा। प्रत्याशियों के चयन में भी ‘युवा और अनुभव’ देखा जाएगा।

राहुल गांधी ने कहा कि लोकसभा चुनावों के लिए उम्मीदवारों की चयन प्रक्रिया इसी माह पूरी कर ली जाएगी। आगामी दो सप्ताह में कांग्रेस के सभी उम्मीदवारों की घोषणा होगी। इसके बाद पार्टी लोकसभा चुनाव को एक यज्ञ और मिशन के तौर पर लेते हुए लोगों के बीच जाएगी।

उन्होंने पार्टी महासचिवों और प्रदेश के पदाधिकरियों को साफ़ तौर पर कहा कि अब कांग्रेस में टिकिट वितरण के नियम बदल गए हैं। अब दो तीन बार चुनाव हार चुके लोगों को टिकिट नहीं दिया जाएगा।

बैठक के बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बताया कि लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के चयन में नौजवानों और महिलाओं को तरजीह दी जाएगी। वंचित व शोषित कार्यकर्ता, जिन्हें कई बार संगठन में मौका नहीं मिलता, उन्हें संसद में आने के लिए प्रेरित करेंगे।

इस बैठक में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, मुकुल वासनिक, गुलाम नबी आज़ाद, मल्लिकार्जुन खड़के, हरीश रावत, अविनाश पांडे, अहमद पटेल के अलावा कई वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें
Loading...