रिटायर्ड अधिकारी है 8 साल की बच्ची के रेप का मास्टरमाइंड

जम्मू। जम्मू कश्मीर के कठुआ जिले में आठ साल की मासूम बच्ची से रेप और उसकी हत्या के मामले में दायर चार्जशीट में खुलासा हुआ है कि इस घटना का मास्टरमाइंड एक रिटायर्ड राजस्व अधिकारी संजी राम है।

पुलिस ने इस जघन्य मामले में रिटायर्ड राजस्व अफसर संजी राम और उसके बेटे विशाल और भतीजे को गिरफ्तार कर लिया है। वहीँ केस की जांच से जुड़े विशेष पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया, सुरिंदर कुमार, प्रवेश कुमार, सहायक पुलिस इंस्पेक्टर और हेड कॉन्स्टेबल तिलक राज को भी सबूत नष्ट करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

चार्जशीट के मुताबिक, बच्ची के पिता मोहम्मद यूसुफ ने 12 जनवरी को हीरानगर थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। उसने कहा था कि उनकी बच्ची दस जनवरी को जानवरों के लिए घास लाने नजदीक के जंगल गई थी, जहां से वापस नहीं लौटी।

पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने के बाद साजिशकर्ता रिटायर्ड अफसर संजी राम के नाबालिग भतीजे को गिरफ्तार कर लिया। चार्जशीट के मुताबिक, बलात्कार और हत्या की साजिश रचने में राम का ही हाथ था। उसने बच्ची के किडनैप, दुष्कर्म और हत्या की योजना बनाई।

उसने विशेष पुलिस अधिकारी खजूरिया और एक नाबालिग को अपनी साजिश में शामिल किया। दीपक अपने दोस्त विक्रम के साथ सात जनवरी की शाम बिटू मेडिकल स्टोर गया और इपिट्रिल दवा के दस टैबलेट खरीदे, जिसका नाम उसके चाचा ने सुझाया था।

चार्जशीट के मुताबिक, इसी शाम राम ने भतीजे को लड़की का अपहरण करने को कहा। लड़की अक्सर जंगल में आती थी। दस जनवरी को जब लड़की अपने जानवरों को खोज रही थी, उसी दौरान राम के भतीजे ने जानवरों के जंगल में होने की बात कही और अपने साथ थोड़ी दूर ले गया। फिर उसने लड़की की गर्दन पकड़कर जमीन पर गिरा दिया।

पिटाई से बच्ची बेहोश हो गई तो नाबालिग ने उसका रेप किया। इसके बाद उसके साथी मन्नू ने भी रेप किया। फिर वे लड़की को मंदिर परिसर में ले गए, जहां उसे प्रार्थनाकक्ष में बंधक बनाकर रखा।

चार्जशीट के मुताबिक, 11 जनवरी को नाबालिग आरोपी ने एक अन्य आरोपी विशाल जंगोत्रा को लड़की के किडनैपिंग के बारे में जानकारी दी। कहा कि अगर वह भी हवस बुझाना चाहता है तो मेरठ से जल्दी आ जाए। 12 जनवरी को विशाल जंगोत्रा रसना पहुंचा। सुबह करीब साढ़े आठ बजे आरोपी मंदिर गए और वहां भूखे पेट बंधक बनी लड़की को नशे की तीन गोली दी।

आरोप है कि जब राम ने कहा कि अब बच्ची की हत्या कर शव को ठिकाने लगाना होगा तो बच्ची के बलात्कार और हत्या की जांच में शामिल विशेष पुलिस अधिकारी खजूरिया ने कहा कि थोड़ा इंतजार करो, मैं भी बलात्कार करूंगा।

सभी ने आठ वर्षीय लड़की का सामूहिक बलात्कार किया। फिर गला घोंटकर और सिर पर पत्थर से प्रहार कर उसकी हत्या कर दी और शव को जंगल में फेंक दिया। चार्जशीट के मुताबिक, पुलिस टीम ने केस से बचाने के लिए रेप के आरोपी नाबालिग की मां से डेढ़ लाख रुपए घूस भी ली।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें