राहुल ने बहरीन में भारतीय मूल के लोगों से कहा “यह बताने आया हूँ कि घर में सबकुछ ठीक नहीं है”

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार विदेश यात्रा पर बहरीन पहुंचे राहुल गांधी ने बहरीन के प्रिंस शेख सलमान बिन हमद अल खलीफा से मुलाकात की। इस दौरान राहुल ने नेहरू की कुछ किताबें भी प्रिंस को भेंट की।

भारतीय मूल के लोगों को सम्बोधित करते कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि बहरीन का निर्माण करने में भारतीय मूल के लोगों का बड़ा योगदान रहा है।

बहरीन में भारतीय मूल के लोगों से राहुल गांधी ने कहा कि मैं यहां आप लोगों को यह बताने आया हूं कि आप हमारे लिए क्या महत्व रखते हैं, यह बताने कि घर में बड़ा खतरा है और यह बताने कि आप भी समाधान का हिस्सा हैं।

उन्होंने मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि रोजगार के अवसर 8 साल के निचले स्तर पर आ पहुंचा हैं। वहीँ गरीबी हटाने, रोजगार देने और शिक्षा व्यवस्था सुधारने की बजाए नफरत फैलाने और बांटने का काम हो रहा है।

उन्होंने कहा कि दुर्भाग्य से हमारे देश में रोजगार के विषय में चर्चा नहीं होती, आज भारत में सिर्फ एक ही चर्चा होती है कि हम क्या बोल सकते हैं या हम क्या नहीं बोल सकते।

राहुल गांधी ने गिरते निवेश और नोट बंदी का उल्लेख करते हुए मोदी सरकार के अब तक के कार्यकाल की खामियां भारतीय मूल के लोगों के समक्ष रखीं। राहुल गांधी ने कहा कि देश को आपकी लग्न, मेहनत, कर्मठता, देशभक्ति और सहयोग की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर भारत की ताकत लौटा सकते हैं। हमे भारत को फिर से अहिंसा और करुणा का केंद्र बनाने की ज़रूरत है। राहुल गांधी ने कहा कि आज दुनिया के किसी भी देश में सबसे ज़्यादा तादाद प्रवासी भारतीयों की है। उन्होंने कहा कि 16 करोड़ से अधिक भारतीय मूल के लोग विदेशो में रहते हैं।

राहुल गांधी ने बहरीन भारतीय मूल के लोगों की तारीफ़ करते हुए अपने बचपन का एक किस्सा भी शेयर किया। उन्होंने अपने एक बचपन के टीचर का उदाहरण सामने रखा जो कभी बहरीन में काम करते थे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी में अनुभव है, युवा है। हम नई चमकती हुई कांग्रेस पार्टी देने जा रहे हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *