राहुल ने किया आंध्र की जनता से वादा: हम देंगे आपके प्रदेश को विशेष दर्जा

तिरुपति। आंध प्रदेश के दौरे पर पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तिरुपति में एक रैली को संबोधित करते हुए आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा किया। उन्होंने कहा कि भरोसा रखिये, यदि कांग्रेस पार्टी ने कोई वादा किया है तो वो वादा हर हाल में पूरा होकर रहेगा।

राहुल गांधी ने कहा, “मैं आंध्र प्रदेश और देश के हर एक व्यक्ति से कहना चाहता हूं कि जैसे ही दिल्ली में कांग्रेस पार्टी की सरकार आयेगी, दुनिया की कोई ताकत आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा देने से कांग्रेस पार्टी को रोक नहीं सकेगी।”

पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “राजनीति और नेतृत्व में सबसे महत्वपूर्ण चीज व्यक्ति के शब्दों का होता है। यदि उसमें वजन नहीं है तो फिर उसका कोई मतलब नहीं। पीएम मोदी ने आंध्र प्रदेश के लोगों से राज्य को ‘विशेष दर्जा’ देने का वादा किया गया था। ये वादा किसी सामान्य व्यक्ति ने नहीं किया था बल्कि देश के पीएम ने किया था। इसके बावजूद अपने वादों को पूरा नहीं किया।”

उन्होंने कहा, “पांच साल पहले पीएम मोदी यहां आये थे और भाषण में कहा था कि आंध्र प्रदेश को 10 सालों के लिये विशेष दर्जा दिया जायेगा। उसी भाषण में उन्होंने हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख देने, हर साल 2 करोड़ नौकरियां देने और किसानों को सही दाम देने की बात भी कही थी। लेकिन उनका हर एक बयान झूठा निकला।”

राहुल गांधी ने कहा कि एक तरफ बीजेपी ने वादे तोड़े और दूसरी तरफ हमने सच्चाई के साथ आपको मनरेगा दिया, आपकी जमीन बचाने का वादा किया तो जमीन अधिग्रहण कानून दिया। कांग्रेस की सरकार आने पर किसान से बिना पूछे उसकी जमीन नहीं ली जा सकती। किसान से जमीन लिये जाने पर 4 गुना मुआवजा दिया जायेगा।

कर्जमाफी को लेकर राहुल गांधी ने कहा कि “मोदी जी ने देश के सबसे बड़े उद्योगपतियों का साढ़े तीन लाख रुपये का कर्जा माफ किया, लेकिन किसानों का कर्जा माफ नहीं किया। हमने किसानों का 70 हजार करोड़ रुपये का कर्जा माफ किया।”

उन्होंने कहा कि हाल ही में हुए चुनाव में कांग्रेस ने हर भाषण में सरकार बनने के बाद दस दिनों में किसानों की कर्जमाफ़ी का वादा किया था, मुझे यह बताते हुए गर्व हो रहा है कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में दो दिनों में हमने कर्ज माफ किया।

पुलवामा आतंकी हमले पर दुख जताते हुए राहुल गांधी ने कहा, “जब सीआरपीएफ के हमारे जवान शहीद हुए तब खुद को राष्ट्रवादी कहने वाले प्रधानमंत्री जी नेशनल पार्क में अपनी फिल्म की शूटिंग कर रहे थे।”

उन्होंने कहा “हमारे जवानों की शहादत के साढ़े तीन घंटे बाद तक पीएम मोदी कैमरे के सामने पोज दे रहे थे, हंस रहे थे और अपनी फिल्म की शूटिंग करवा रहे थे। उनके लिये शहादत देने वाले जवानों के परिवारों की मदद करने की बजाय फिल्म की शूटिंग करवाना, कैमरे के सामने हंसना ज्यादा जरुरी था। भारत के प्रधानमंत्री मोदी को हमारे जवानों की शहादत के बाद अपने व्यवहार पर शर्म आनी चाहिए।”

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें
loading...