राहुल गांधी का बड़ा हमला: राफेल डील की पोल न खुले इसलिए सीबीआई निदेशक को हटाया गया

नयी दिल्‍ली। राफेल डील और सीबीआई में चल रही उठापटक को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीधा हमला बोला है।

गुरूवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने सीबीआई के प्रमुख को इसलिए हटा दिया क्योंकि एजेंसी इस सौदे की जांच की प्रक्रिया शुरू करने जा रही थी।

राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री डर गए, घबरा गए कि सीबीआई की जांच शुरू हो गयी तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री सीबीआई के प्रमुख को हटा ही नहीं सकते क्योंकि हटाना है तो तीन लोगों (प्रधानमंत्री, प्रधान न्यायाधीश और नेता प्रतिपक्ष) को यह फैसला करना होगा।

उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने सीबीआई प्रमुख को हटाने का फैसला डर के मारे लिया क्योंकि ‘चौकीदार’ को लगा कि अगर जांच हो गयी तो पूरे देश को पता लग जाएगा कि ‘चौकीदार’ ने ही 30,000 करोड़ रुपये की चोरी करके यह अनिल अंबानी को दिया है।

राहुल ने पूछा “आखिर क्यों PM ने रात में 2 बजे सीबीआई डायरेक्‍टर को पद से क्‍यों हटाया? उन्होंने कहा कि सवाल यह नहीं कि राहुल गांधी को घोटाले का पता कैसे लगा बल्कि सवाल ये है कि प्रधानमंत्री ने अनिल अंबानी के जेब में 30 हजार करोड़ रुपये डाल दिये।

उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने जानबूझकर एक भ्रष्ट अधिकारी को सीबीआई में चार्ज दिया जिससे उससे दबाव में काम कराया जा सके। राहुल गांधी ने कहा कि हम विपक्ष में होने की जिम्मेदारी निभा रहे हैं और प्रधानमंत्री ने जहां भ्रष्टाचार किया है उसे जनता को बता रहे हैं।

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर कहा कि “CBI चीफ आलोक वर्मा राफेल घोटाले के कागजात इकट्ठा कर रहे थे। उन्हें जबरदस्ती छुट्टी पर भेज दिया गया। प्रधानमंत्री का मैसेज एकदम साफ है जो भी राफेल के इर्द गिर्द आएगा- हटा दिया जाएगा, मिटा दिया जाएगा। देश और संविधान खतरे में हैं।”

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें