राहुल गांधी का बड़ा एलान: कांग्रेस की सरकार बनी तो हर गरीब को न्यूनतम आय की गारंटी

रायपुर(राजाज़ैद)। छत्तीसगढ़ के दौरे पर पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बड़ा एलान किया है। यहाँ किसान आभार सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए राहुल गांधी ने एलान किया कि यदि 2019 के चुनावों के बाद केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनीं तो गरीब वर्ग के लिए न्यूनतम आमदनी सुनिश्चित की जाएगी।

राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी न्यूनतम आमदनी गारंटी देती है। केंद्र में कांग्रेस की सरकार आने के बाद न कोई भूखा रहेगा, न कोई गरीब रहेगा। यह काम दुनिया में सबसे पहले कांग्रेस सरकार करेगी।

राहुल ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि हम आपके लिए काम करने आए हैं। यहां नेताओं के मन की नहीं आपके मन की बात होगी। राहुल ने कहा कि हम ऐसे कदम उठाने जा रहे हैं जो दुनिया की किसी सरकार ने नहीं उठाए होंगे। 2019 का चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस पार्टी की सरकार हर गरीब को न्यूनतम आमदनी की गारंटी देगी। यानी हर गरीब के बैंक अकाउंट में एक न्यूनतम राशि होगी।

राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ की जनता, युवाओं और किसानों को धन्यवाद दिया। राहुल ने कहा आपने कांग्रेस पर भरोसा किया, आपने हमें मामूली जिम्मेदारी नहीं दी है। हम दिल से कोशिश करेंगे कि अपनी जिम्मेदारी पूरी करें।

राहुल ने कहा कि हम जब भी किसानों की बात करते थे तो पूर्व की भाजपा सरकार कहती थी कि हमारे पास पैसा नहीं है। दिल्ली में भी मोदी सरकार यही कहती थी। हिंदुस्तान के चौकीदार के पास किसानों के लिए पैसा नहीं है।

राहुल गांधी ने किसानों को आश्वासन दिया कि यदि कांग्रेस सरकार जमीन अधिग्रहण करेगी तो उसका उचित मुआवजा दिया जाएगा। यदि अधिग्रहण होने के पांच साल तक काम नहीं हुआ तो जमीन किसानों को वापस कर दी जाएगी।

उन्होंने भरोसा दिलाया कि छत्तीसगढ़ पूरी दुनिया का धान का कटोरा बनेगा। भाजपा दो तरह का हिंदुस्तान बनाना चाहती है। एक उद्योगपतियों का और दूसरा गरीब किसानों का। लेकिन कांग्रेस ऐसा नहीं होने देगी।

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का यह दांव इसलिए भी अहम माना जा रहा है क्योंकि केंद्र की मोदी सरकार लगातार यूनिवर्सल बेसिक इनकम लागू करने का संकेत देती रही है।

मोदी सरकार में वित्त मंत्रालय के पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन ने इकोनॉमिक सर्वे में यूनिवर्सल बेसिक इनकम की वकालत भी कर चुके हैं। जिसके बाद से यह बहस लगातार चलती रही है कि भाजपा 2019 के चुनावों के पहले वोटरों को लुभाने के लिए ऐसा दांव चल सकती है। ऐसे में राहुल गांधी का यह बयान एक तरह से क्रेडिट लेने की दौड़ में आगे निकल सकता है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें