राहुल का गवर्नर को जबाव ‘विमान नहीं, जम्मू कश्मीर जाने की इजाज़त दी जाए’

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के उस बयान पर पलटवार किया है जिसमे उन्होंने राहुल गांधी को कश्मीर बुलाने के लिए विमान भेजने की बात कही थी।

कश्मीर के हालातो को लेकर पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान पर जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने कहा था कि संभवतः सीमा पार से घाटी की स्थिति को लेकर फैलाए जा रहे फेक न्यूज पर प्रतिक्रिया दे रहे थे। सत्यपाल मालिक ने कहा कि वह राहुल गांधी के लिए विशेष विमान भेजेंगे ताकि वह घाटी की स्थिति का जायजा ले सकें।

इस पर राहुल गांधी ने कहा है कि विपक्षी नेताओं के दल को जम्मू और कश्मीर जाने की इजाजत दी जाए लेकिन इस दौरान दल के नेताओं को लोगों से मिलने का मौका दिया जाए।

राहुल गांधी ने सत्यपाल मलिक को संबोधित करते हुए ट्वीट किया कि मैं विपक्ष के नेताओं के साथ जम्मू-कश्मीर और लद्दाख आने के निमंत्रण को स्वीकार करना चाहता हूं।

राहुल गांधी ने कहा, ‘हमें एयरक्राफ्ट मत दीजिए, लेकिन इस बात को तय कर दीजिए कि हमें वहां घूमने और लोगों से मिलने की आजादी होगी। हमारे मेन स्ट्रीम लीडर और सेना के जवान वहीं रहेंगे।’

वहीँ इससे कांग्रेस सांसद नेता शशि थरूर ने भी सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल को कश्मीर भेजने की मांग की हैं। शशि थरूर ने ट्विटर पर लिखा, ‘केवल राहुल गांधी क्यों, हम कांग्रेस की ओर से गवर्नर साहब आपसे मांग करते हैं कि एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल को जम्मू-कश्मीर में बुलाया जाए। यह प्रतिनिधिमंडल कश्मीर के हालात का जायजा लेगा। आप इस यात्रा की व्यवस्था करें।

बता दें कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने से एक दिन पहले जम्मू कश्मीर के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती को उनके घर में नज़रबंद कर दिया गया था। इतना ही नहीं जम्मू कश्मीर में बड़ी तादाद में सुरक्षा बलो की तैनाती भी की गयी थी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें