राम मंदिर पीएम मोदी की मर्जी से नहीं ईश्वर की मर्जी से बनेगा

नई दिल्ली। वरिष्ठ अधिवक्ता और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उनके बारे में राम मंदिर में अड़ंगे डालने के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि अयोध्या में राम मंदिर पीएम नरेंद्र मोदी की मर्जी से नहीं बल्कि भगवान की मर्जी से बनेगा।

सिब्बल ने उस आरोप को भी गलत बताया जिसमे कहा गया कि कपिल सिब्बल सुप्रीमकोर्ट में सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को कोई बयान देने से पहले तथ्यों को सही जानकारी लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह कहना सरासर गलत है कि वे सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील हैं।

सिब्बल ने कहा कि हम भगवान् पर विश्वास करते हैं पीएम मोदी पर नहीं। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी राम मंदिर बनाने नहीं जा रहे, इस पर कोर्ट फैसला देगा, मंदिर तभी बनेगा जब ईश्वर की मर्जी होगी।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का इस तरह का बयान किसी तरह से देश की मदद नहीं करेगा बल्कि देश में विवाद की स्थति पैदा करेगा। सिब्बल ने कहा कि मंदिर प्रधानमंत्री मोदी के कहने से नहीं बल्कि कोर्ट के निर्णय से बनेगा।

गौरतलब है कि बीजेपी ने आरोप लगाया था कि कल अयोध्या मामले की सुनवाई के दौरान वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने इस मामले की सुनवाई को 2019 के बाद करने के लिए कोर्ट से निवेदन किया था।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें