राफेल मामले में शरद पवार द्वारा पीएम को क्लीनचिट देने पर नाराज़ तारिक अनवर का इस्तीफा

नई दिल्ली। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के संस्थापक सदस्य और बिहार से सांसद तारिक अनवर ने पार्टी और लोकसभा की सदस्यता  से इस्तीफा दे दिया है।

तारिक अनवर ने कहा, पवार साहब का राफेल पर बयान मुझे ठीक नहीं लगा. एनसीपी की तरफ से सफाई आई, लेकिन वो सही नहीं है। पवार साहब ने जब बयान दिया था तो खुद उनको सफाई देनी चाहिए थी।  हालांकि उनकी तरफ से खुद कोई सफाई नहीं आई तो मैंने इस्तीफा दे दिया।

तारिक अनवर ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और लोकसभा की सदस्यता  से इस्तीफा दे दिया है। एनसीपी छोड़ने के बाद किस पार्टी में जाएंगे इस सवाल पर तारिक अनवर ने कहा कि ये अभी तय नहीं है। समर्थकों से बात करने के बाद तय करूंगा।

तारिक अनवर बिहार के कटिहार से सांसद हैं। उन्होंने 1999 में सोनिया गांधी के विदेशी मूल के मुद्दे पर कांग्रेस से बगावत कर शरद पवार के साथ एनसीपी बनाई थी।

बता दें कि गुरुवार को राफेल मामले पर एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार के मोदी सरकार का समर्थन करने की खबर आई थी, जिस पर बाद में एनसीपी ने सफाई देते हुए कहा था कि ऐसी कोई बात नहीं कही गई है।

वहीँ माना जा रहा है कि तारिक अनवर करीब 19 साल बाद कांग्रेस में फिर से वापसी कर सकते हैं। तारिक अनवर 2019 के लोकसभा चुनाव में विपक्ष की एकजुटता के पक्षधर माने जाते हैं। विपक्ष की अधिकतर बैठकों में तारिक अनवर एनसीपी के प्रतिनिधि के तौर पर शामिल होते रहे हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें