राफेल पर बोले राहुल: डील के कागजो में पीएम और पीएमओ का नाम, तुरंत कार्रवाही हो

नई दिल्ली। राफेल डील पर सुप्रीमकोर्ट में केंद्र सरकार द्वारा डील से जुड़े अहम दस्तावेजों के गायब होने की जानकारी दिए जाने के बाद अगले ही दिन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी पर सीधा हमला बोला है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार ने एक नई लाइन निकाली है, ‘गायब हो गया’। उन्होंने कहा कि सरकार कह रही है कि राफेल के कागजात चोरी हो गए तो इसका मतलब है, वे कागजात सही हैं। राफेल में पीएम ने बाईपास सर्जरी की है तो इसकी जांच होनी चाहिए।

गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राहुल गांधी ने कहा कि अब दो करोड़ युवाओं का रोजगार गायब हो गया, किसानों को सही दाम गायब हो गया, 15 लाख का वादा गायब हो गया, किसानों के बीमा का दाम गायब हो गया, डोकलाम गायब हो गया और अब राफेल की फाइलें गायब हो गईं।

राहुल गांधी ने कहा कि राफेल डील में नरेंद्र मोदी ने बाईपास सर्जरी की है। राफेल डील में प्रधानमंत्री ने ही देरी की है, प्रधानमंत्री को खुद इसकी जांच करवानी चाहिए। जल्द सामने आएगा कि सारा पैसा कहां गया है। उन्होंने कहा कि अगर प्रधानमंत्री को लगता है वो निर्दोष हैं तो फिर जांच करवाने दीजिए। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्रालय की फाइल में लिखा है कि प्रधानमंत्री ही डील कर रहे हैं इसका मतलब साफ है कि उन पर कार्रवाई होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि मीडिया के बारे में कहा जाता है कि हम आप पर जांच करेंगे, क्योंकि राफेल की फाइलें गायब हो गईं हैं, लेकिन जिसने 30 हजार करोड़ रुपये का घोटाला किया है, जिसके बारे में फाइलों में साफ लिखा है, उस पर कोई जांच नहीं होगी। बेसिक आइडिया है कि किसी भी चीज को तोड़-मरोड़कर नरेंद्र मोदी का बचाव करना है। चौकीदार को बचाकर रखना है।

राहुल गांधी ने कहा कि पहले सभी कह रहे थे कि राफेल में कुछ नहीं है, लेकिन बाद में हमने साबित किया कि राफेल डील में घोटाला हुआ है। अब अखबार की रिपोर्ट भी इस बात को साबित करती है कि घोटाला हुआ है और प्रधानमंत्री इसमें शामिल हैं। पीएम मोदी को खुद कहना चाहिए कि मैं जांच करवाने को तैयार हैं। मोदी सरकार जेपीसी करवाने से भी भाग रही है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि राफेल डील में प्रधानमंत्री ने ही देरी की है, प्रधानमंत्री को खुद इसकी जांच करवानी चाहिए। जल्द सामने आएगा कि सारा पैसा कहां गया है। उन्होंने कहा कि अगर प्रधानमंत्री को लगता है वो निर्दोष हैं तो फिर जांच करवाने दीजिए। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्रालय की फाइल में लिखा है कि प्रधानमंत्री ही डील कर रहे हैं इसका मतलब साफ है कि उनपर कार्रवाई होनी चाहिए।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें