राफेल डील पर लिखी किताब की रिलीज रोकने पर EC ने अपने अधिकारियों को दिया नोटिस

नई दिल्ली। तमिलनाडु के सामाजिक कार्यकर्ता एस विजयन द्वारा राफेल डील पर लिखी गयी किताब की रिलीज रोकने पर चुनाव आयोग ने अपने ही कर्मचारियों को नोटिस देकर जबाव तलब किया है, साथ ही किताब की रिलीज को रोकने वाले अधिकारीयों को चुनाव ड्यूटी से हटा दिया गया है।

मामला उस समय प्रकाश में आया जब मंगलवार को असिस्टेंट एक्जीक्यूटिव इंजीनियर एस गणेश, पुलिस अधीक्षक और दो पुलिस कांस्टेबल ने राफेल डील पर लिखी गई किताब के प्रकाशक भारती पुथकलम स्थित पब्लिशिंग हाउस पर रेड की थी।

इस दौरान किताब को जब्त कर लिया गया था और इसकी रिलीज पर बैन लगा दिया गया था। यह मामला सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद चुनाव आयोग ने इस पर संज्ञान लेने के बाद अपने ही महकमे के अधिकारीयों पर सख्ती दिखाते हुए उन्हें नोटिस जारी कर जबाव माँगा है।

चुनाव आयोग के हरकत में आने के बाद इस किताब की रिलीज पर लगाए गए बैन को हटा दिया और जब्त की गई किताब की प्रतियों को वापस कर दिया। फिर मंगलवार शाम को यह किताब रिलीज हो गई।

इस मामले में तमिलनाडु के मुख्य चुनाव अधिकारी (CEO) ने बयान जारी कर सफाई दी है। उन्होंने कहा कि इस किताब के रिलीज को रोकने के लिए न तो भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त के कार्यालय और न ही मुख्य चुनाव अधिकारी के कार्यालय से कोई निर्देश जारी किए गए।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें