राफेल डील पर बोले मनमोहन: दाल में कुछ काला ज़रूर

इंदौर। मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और बीजेपी ने अपनी पूरी ताकत झौंक दी है। चुनाव प्रचार के लिए इंदौर पहुंचे पूर्व प्रधानमंत्री डा मनमोहन सिंह ने राफेल डील को लेकर मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा किया।

राफेल डील को लेकर डा मनमोहन सिंह ने कहा कि दाल में कुछ काला ज़रूर है। उन्होंने कहा कि राफेल डील पर देश में संशय की स्थिति बनी हुई है। मोदी सरकार से विपक्षी पार्टियां और कई राजनीतिक समूह मीटिंग की बात कर रहे हैं लेकिन सरकार तैयार नहीं है इससे पता चलता है कि इस सौदे में जरूर दाल में कुछ काला है।

हमने पक्षपात नहीं किया, शिवराज गवाह हैं:

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश में किसान बहुत परेशान हैं। उनकी समस्याओं की फेहरिस्त बहुत लंबी है। इतना ही नहीं उन्होंने एमपी में हुए व्यापमं घोटाले का जिक्र किया।

उन्होंने कहा कि, एमपी में व्यापमं जैसा महाघोटाला हुआ। इतना ही नहीं पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने सीएम शिवराज सिंह के उन आरोपों को भी खारिज किया, जिसमें उन्होंने यूपीए सरकार के वक्त प्रदेश के साथ भेदभाव होने की बात कही थी। मनमोहन सिंह ने कहा कि, हमने मध्य प्रदेश के साथ कोई भदभाव नहीं किया है। इसके गवाह खुद शिवराज सिंह चौहान हैं।

उन्होंने कहा कि, “मैं जब प्रधानमंत्री था तो मैंने शिवराज सरकार की हर संभव मदद की , मेरी यही कामना रही थी कि सभी राज्यों को जो सहायता चाहिए, वो मिलनी चाहिए। भाजपा सरकार के अब 5 से 6 माह बचे हैं, इस सरकार ने जनता से किए वादे पूरे नहीं किए हैं।”

मध्य प्रदेश में किसानो की दुर्दशा, दो करोड़ नौकरी का वादा सिर्फ जुमला :

मनमोहन सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश में किसानों की दुर्दशा हो रही है। प्रदेश में उन्हें उचित दाम नही मिला। उलटा कर्ज के नीचे दबे जा रहे हैं, इसलिए किसान आत्महत्या कर रहे हैं। उसका जवाब मोदी सरकार को देना होगा। जो वादे उन्होंने किए वो पूरे नहीं हुए।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार का 2 करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा भी एक जुमला बनकर ही रह गया। पूर्व प्रधानमंत्री ने सीबीआई विवाद का ज़िक्र करते हुए कहा कि नेशनल एजेंसी का दुरुपयोग हो रहा है।

वहीं सीबीआई डायरेक्टरों के बीच चल रहे विवाद को लेकर उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि, ये मामला सुप्रीम कोर्ट में है, इसलिए मैं बात नही कर सकता। राफेल मामले में दाल में काला है, इसलिए सरकार जेपीसी की मांग नहीं मान रही है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें