राज्य सभा में लगे “नरेंद्र मोदी – दलित विरोधी” के नारे

नई दिल्ली। बजट सत्र के दूसरे चरण में आज बीसवें दिन राज्य सभा की कार्यवाही आठ बार स्थगित करनी पड़ी। राज्य सभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद नव निर्वाचित राज्य सभा सदस्यों को शपथ दिलवाई गयी।

सबसे पहले कावेरी बोर्ड के गठन की मांल को लेकर AIADMK सांसदों का वेल में आकर हंगामा किया जिसके चलते लोकसभा की कार्यवाही 12 बजे तक स्थगित करनी पड़ी।

इस दौरान बीएसपी और अन्य दलों के सांसद भी सरकार के खिलाफ दलित विरोधी होने के नारे लगाना शुरू कर दिया। संसदीय कार्य राज्यमंत्री विजय गोयल ने हंगामा कर रहे सांसदों ने अपनी स्थान पर वापस जाने की अपील की। उन्होंने कहा कि दलित विरोध को पिछली कांग्रेस की सरकार थी, हमारी सरकार ने तो दलितों के लिए काफी काम किए हैं।

सभापति ने हंगामा कर रहे सांसदों से कहा कि सदन में अब तक कोई कामकाज नहीं हो सका है और कई अहम बिल एजेंडे में हैं। उन्होंने कहा कि देश आपको देख रहा है और हंगामे से कुछ भी हासिल नहीं होने जा रहा।

इसके बावजूद सदस्यों का हंगामा जारी रहा और सभापति ने राज्यसभा की कार्यवाही 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी। राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाब नबी आजाद ने कहा कि सभापति सदन को चलाने की बात कर थे।

उन्होंने कहा कि पूरा विपक्ष चाहता है कि सदन में काम-काज हो और बिल पारित किया जाए। आजाद ने कहा कि ऐसा माना जा रहा है कि विपक्ष सदन को चलने नहीं दे रहा, यह सरासर गलत है।

आजाद ने राज्यसभा में कहा कि सभी दलों के सांसद चाहते हैं कि उनके राज्यों के मुद्दों पर सदन में चर्चा हो। लेकिन उसके लिए सरकार और विपक्ष का तालमेल जरूरी है।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कावेरी से लेकर बैंक घोटाला, पेपर लीक, दलित से जुड़े मुद्दे पर चर्चा होनी चाहिए। इसके बाद संसदीय कार्य राज्यमंत्री ने आजाद के बयान पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि सत्ताधारी दल ही नहीं चाहता कि सदन में किसी मुद्दे पर चर्चा हो और विपक्ष पर सदन न चलने देने के आरोप लगाए जा रहे हैं।

दो बजे राज्य सभा की कार्यवाही शुरू होते ही राज्यसभा में कांग्रेस, टीडीपी समेत विपक्षी दलों के सांसद वेल में आकर नारेबाजी शुरू करदी। विपक्ष के सदस्यों ने ‘दलित विरोधी यह सरकार नहीं चलेगी, नहीं चलेगी’ और ‘नरेंद्र मोदी, दलित विरोधी’ के नारे लगाए।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *