राज्यसभा लाइव: कपिल सिब्बल का बड़ा सवाल- नौकरियां ही नहीं तो आरक्षण का फायदा कैसे मिलेगा

नई दिल्ली। सामान्य वर्ग के लोगों को नौकरी और शिक्षा में दस फीसदी आरक्षण की व्यवस्था वाले विधेयक पर राज्य सभा में चर्चा जारी है। यह विधेयक लोकसभा में मंगलवार को पास हो चूका है अब इसको राज्य सभा में पास होना आवश्यक है।

इस विधेयक को लेकर राज्यसभा में चर्चा चल रही है और सत्ता -विपक्ष के बीच एक के बाद एक बड़े आरोप प्रत्यारोप चल रहे हैं। कांग्रेस सांसद और वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने चर्चा में भाग लेते हुए सवाल किया कि जब नौकरियां हैं ही नहीं तो आरक्षण का लाभ कैसे मिलेगा।

सिब्बल ने कहा कि पूरे पांच साल बीतने को आये तो सरकार ये बिल लेकर आयी है। यदि यह बिल समय रहते आता, उस पर पूरी तरह चर्चा हो जाती, बिल सेलेक्ट कमिटी के पास जाता लेकिन अब बिल लेकर आए हैं और जल्दबाजी में इसे पास कराने की कोशिश सरकार की मंशा पर सवाल उठाता है।

कपिल सिब्बल ने सदन में सरकार से कुछ सवाल पूछते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने आर्थिक आधार पर आरक्षण को असंवैधानिक कहा है तो इस बारे में फैसला क्यों लिया गया? एससी, एसटी, ओबीसी के तहत जिन गरीबों को नौकरी नहीं मिली उनका क्या होगा?

कपिल सिब्बल ने कहा कि मोदी सरकार में हर साल सिर्फ 45 हजार लोगों को नौकरियां मिली हैं, जब नौकरियां हैं ही नहीं तो 10 फीसदी आरक्षण का फायदा किसे मिलेगा? सदन में टॉयलेट बनाने के आंकड़ों पर चर्चा क्यों की गई? जितनी नई नौकरियां मिली हैं उससे कई गुना ज्यादा नौकरियां छीन ली गई हैं।

उन्होंने कहा कि कोई दलित का परिवार जो 5000, 10,000 रुपये कमाता है वो गरीब नहीं है बल्कि जो साल में 8 लाख रुपये कमाता है वो गरीब है? क्या सरकार इस आरक्षण बिल के जरिए वास्तविक वंचितों को फायदा पहुंचा पाएगी? क्या इस बिल के जरिए सरकार बेवकूफ बना रही है?

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें
loading...