राजस्थान में तीन दिनों में 536 गौवंश की मौत पर लीपापोती के प्रयास

जयपुर। राजस्थान के कुछ इलाको में हो रही भीषण बारिश से गौवंश का बुरा हाल है। ज्यादा बारिश के कारण पथमेड़ा गौशाला की जालौर व सिरोही शाखा में 536 गौवंश की मौत हो चुकी है। जानकारी के अनुसार मौत का यह आंकड़ा बीते ​तीन दिनों का है।

गौशाला संरक्षकों का कहना है कि इस मामले में प्रशासनिक स्तर ठोस प्रयास नहीं हुए। इतना ही नहीं गौ वंश की बड़ी तादाद में मौत के तीन दिन बाद मेडिकल टीम जांच के लिए भेजा गया है। उनका आरोप है कि सरकार पूरे मामले पर लीपापोती करने में जुटी है। बता दें कि राजस्थान देश में एक ऐसा राज्य है जहां गौवंश संरक्षण के लिए पूरा विभाग कार्य करता है।

संरक्षक गोविंद वल्लभ के अनुसार गौवंश की मौत लगातार हो रही बारिश में भीगने के कारण हुई है। गौशालाओं में हजारों की संख्या में गायें ऐसी है जो लगातार भीगने के कारण कमजोर हो गई हैं और अपने स्थान से उठ भी नहीं पा रही है। कई गाय कीचड़ और दलदल में फंस गई और निकल ही नहीं पाईं। फंसे रहने के कारण और भूख से उनकी मौत हो गई।

गौशाला संरक्षकों का कहना है कि जालौर व सिरोही में गौवंश के मौत की सूचना स्थानीय प्रशासन को समय से दे दी गई थी लेकिन इस पर तुरंत एक्शन नहीं हुआ। अधिकतर गौशालाओं में जलभराव के कारण गायो की स्थति दयनीय हो गयी है।

 

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें