रसूकदारों से पहुँच का फायदा उठा रहा दाती महाराज, रेप आरोप के बाद भी अभी घूम रहा आज़ाद

नई दिल्ली। खुद को शनि का अनुयायी बताने वाले दाती महाराज उर्फ़ मदन लाल पर रेप का मामला दर्ज किये जाने जाने के बावजूद अभी तक उसकी गिफ्तारी नहीं की गयी है बल्कि क्राइम ब्रांच अभी दाती महाराज को पूछताछ के लिए सिर्फ नोटिस जारी करेगी ।

क्राइम ब्रांच द्वारा दाती महाराज को नोटिस जारी किये जाने के बाद एक बड़ा सवाल रेप आरोपी दाती महाराज के राजनैतिक रसूकदारो से ताल्लुकों को लेकर उठ रहा है। आम तौर पर सामान्य व्यक्तियों के मामले में रेप की शिकायत मिलने के बाद ही पुलिस आरोपियों को हिरासत में ले लेती है। लेकिन दाती महाराज के मामले में ऐसा क्यों नहीं हुआ ?

इससे पहले गुरुवार को आश्रम पहुंची क्राइम ब्रांच की टीम को पीड़ित लड़की ने आश्रम के दोनों कमरे दिखाए, जहां उसके साथ रेप किया गया था। इसी के साथ पीड़ित लड़की ने दाती महाराज का भी कमरा दिखाया, जहां उसके साथ रेप किया गया था।

पीड़ित लड़की ने अपने गृह राज्य राजस्थान में मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज करा दिया गया है। मजिस्ट्रेट को दिए गए बयान में पीड़ित लड़की ने कहा कि बाबा की एक अन्य महिला अनुयायी उसे महाराज के कमरे में जबरन भेजती थी। वह करीब दो साल पहले आश्रम से भाग गई थी और लंबे समय से अवसाद में थी।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें