योगी सरकार कराएगी अयोध्या के साधुओं का सत्यापन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा अयोध्या में रह रहे साधू संतो का सत्यापन कराये जाने के निर्णय को लेकर साधुओं ने नाराज़गी ज़ाहिर की है। साधुओं का कहना है कि क्या हम अपराधी हैं जो हमारा सत्यापन किया जाएगा ?

वहीँ अयोध्या प्रशासन के अनुसार बाहर से आकर बसने वाले साधुओं और संतों के आपराधिक रिकॉर्ड की जांच की जाएगी. साथ ही अयोध्या में रहने वाले हर संतों के रिकॉर्ड प्रशासन अपने पास रखेगी।

प्रशासन का मानना है कि अयोध्या में देश के विभिन्न राज्यों और विदेश से भी साधू भेषधारी भगवान के दर्शन करने आते हैं और यहां के मठों मंदिरों में बस जाते है। जिनकी विश्वसनियता की जांच कर पाना मुश्किल था। लिहाजा प्रशासन बाहर से आकर बसने इन साधुओं और संतों पर विशेष नज़र रखेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रशासन का तर्क है कि अयोध्या में आपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाए जाने की कवायद के तहत ही साधुओं का सत्यापन किया जाएगा।

प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार बाहर से आये अपराधी साधू का भेष रखकर वारदात के बाद इधर उधर मठो और आश्रमों में आश्रय ले लेते हैं। जिनकी शिनख्त कर उन्हें ढूंढ निकालना आसान नहीं होता। ऐसे अपराधी मौका देकर जगह बदलते रहते हैं। प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार इस कवायद से फ़र्ज़ी साधुओं पर भी अंकुश लग सकेगा।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें