यशवंत सिन्हा के बीजेपी छोड़ते ही सुब्रमण्यम स्वामी ने दिया बयान, कहा ‘मेरी बातों को भी नज़रअंदाज़ कर देते हैं अमित शाह’

नई दिल्ली। बीजेपी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा के बीजेपी को छोड़ने पर सु्ब्रमण्यम स्वामी ने रविवार को अपनी ही पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी आलाकमान उनको भी नज़रअंदाज़ कर देते हैं।

उन्होंने कहा कि वरिष्ठ बीजेपी नेता नहीं चाहते हैं कि वह अपना कोई भी कार्यक्रम जनता के बीच ले जाएं। वह जब कभी भी ऐसा योजना बनाते हैं तो उन्हें बुलाकर कार्यक्रम ​स्थगित करने के लिए कहा गया है।

रविवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए वरिष्ठ बीजेपी नेता सु्ब्रमण्यम स्वामी ने दावा किया कि,’ बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह इस देश में मेरे किसी भी कार्यक्रम को करने की इजाजत नहीं देते हैं। वह मुझे बुलाते हैं और अक्सर मुझे मेरे कार्यक्रम स्थगित करने के लिए कहते हैं।’

वहीं यशवंत सिन्हा के पार्टी छोड़ने के फैसले पर भी स्वामी ने टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि, मैं अपने सिद्धान्तों के लिए लड़ने वाला इंसान हूं। इसीलिए मैं हर बात को सहन करता हूं।

उन्हें भी भगवान का सामना करना पड़ेगा। लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि मैं पार्टी छोड़ दूं। इसलिए, मैं यशवंत सिन्हा के पार्टी छोड़कर जाने का बिल्कुल भी समर्थन नहीं करता और न ही इसे ठीक मानता हूं। बता दें कि सु्ब्रमण्यम स्वामी पहले भी अक्सर पार्टी के फोरम पर खुद को तवज्जो न देने की बात दोहराते रहे हैं।

वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने शनिवार को भाजपा छोड़कर जाने का ऐलान किया था। उन्होंने केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर लोकतंत्र और संविधान की हत्या की कोशिश का आरोप भी लगाया था।

यशवंत सिन्हा ने पार्टी छोड़ते हुए कहा था कि उन्होंने साल 2014 में पार्टी से चुनाव न लड़ने के लिए अनुरोध किया था। इसी के साथ मैंने घोषणा की थी कि मैं 2014 में चुनावी राजनीति से संन्यास ले लूंगा। लेकिन इसका अर्थ ये बिल्कुल भी न निकाला जाए कि मेरे दिल की धड़कनें बंद हो चुकी हैं।

मेरा दिल अभी भी धड़कता है। मैं अपनी आखिरी सांस तक लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई लड़ता रहूंगा।’ बता दें कि पूर्व आईएएस अधिकारी यशवंत सिन्हा अटल बिहारी बाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में देश के वित्त मंत्री भी रह चुके हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें