म.प्र में नई सरकार के लिए दिग्विजय सिंह को सौंपी गई ज़िम्मेदारी, दिल्ली से आया आदेश

भोपाल ब्यूरो। मध्य प्रदेश में कांग्रेस और बीजेपी के बीच कल रही कांटे की टक्कर के बीच पार्टी हाईकमान ने दिग्विजय सिंह से नई सरकार बनने तक मध्य प्रदेश में रहने के निर्देश दिए हैं। इससे पहले चुनाव रुझान आने के बाद दिग्विजय सिंह दिल्ली का रुख करने को तैयार हो गए थे।

सूत्रों के मुताबिक चुनावी रुझानों में लगातार हो रहे उलटफेर के बाद यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बीच हुई मुलाकात के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह को विशेष ज़िम्मेदारी दी गयी है।

सूत्रों ने कहा कि दिग्विजय सिंह से कहा गया है कि वह राज्य में नई सरकार की तस्वीर साफ़ होने तक भोपाल में डटे रहें। सूत्रों के मुताबिक प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ, प्रचार समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया एक ही गाड़ी में बैठकर रवाना हुए हैं।

वहीँ मतगणना के ताजा रुझानों के मुताबिक अब तक 94 सीटों के परिणाम घोषित किये जा चुके हैं। इनमे कांग्रेस और बीजेपी को 45 – 45 सीटें मिली हैं जबकि 3 सीटों पर अन्य विजयी रहे हैं। वहीँ 69 सीटों पर कांग्रेस और 64 सीटों पर बीजेपी के उम्मीदवार बढ़त बनाये हुए हैं। जबकि 4 सीटों पर अन्य आगे चल रहे हैं।

ताजा रुझानों में कांग्रेस को 114 सीटें, बीजेपी को 109 सीटें तथा 7 सीटें अन्य के खाते में जाती दिखाई दे रही हैं। रुझानों में लगातार हो रहे फेरबदल के चलते अंतिम समय तक कुछ नहीं कहा जा सकता कि राज्य में किसकी सरकार बनेगी। वहीँ बसपा ने साफतौर पर बीजेपी को किसी तरह का समर्थन देने से साफ़ इंकार कर दिया। वहीँ समाजवादी पार्टी ने पहले ही कांग्रेस को समर्थन का एलान कर दिया है।

वहीँ राजस्थान और छत्तीसगढ़ में बीजेपी की पराजय के बाद वसुंधरा राजे सिंधिया और डा रमन सिंह ने अपने इस्तीफे राज्यपाल को सौंप दिए हैं। इन दोनों राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनना तय हो चूका है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें