मॉब लीचिंग का शिकार बने अख़लाक़ के पूरे परिवार के नाम वोटर लिस्ट से गायब

नोएडा। वर्ष 2015 में हिंसक भीड़ द्वारा गौमांस के शक में पीट पीट कर मार दिए गए अख़लाक़ के परिजन लोकसभा चुनाव में मतदान नहीं कर सके। गौतमबुद्ध नगर लोकसभा सीट की वोटर लिस्ट में से दादरी के बिसहाड़ा गांव में रहने वाले अख़लाक़ के पूरे परिवार के नाम नदारद मिले हैं।

वोटरलिस्ट से नाम गायब होने की जानकारी अख़लाक़ के परिजनों को उस समय मिली जब वे पोलिंग बूथ पर मतदान के लिए पहुंचे थे। परिजनों ने वोटरलिस्ट में अपना नाम तलाश करवाया लेकिन परिवार के सभी लोगों के नाम वोटर लिस्ट से गायब थे।

पूरे परिवार के नाम वोटर लिस्ट से गायब होने पर ब्लॉक लेविल अधिकारी (बीएलओ) ने तर्क दिया है कि अख़लाक़ के परिवार के लोग कई महीनो तक अपने घर पर नहीं थे और वे कहीं और रहने चले गए थे। इसलिए मतदाता सूची के सत्यापन के समय उनकी घर पर गैरमौजूदगी के चलते उनके नाम वोटर लिस्ट से हटाए गए होंगे।

गौरतलब है कि 28 सितंबर, 2015 यूपी के दादरी के बिसहड़ा गांव में मो.अखलाक को घर में बीफ रखने के आरोप में कुछ लोगों ने उसकी पीट पीट कर हत्या कर दी थी। गौमांस को लेकर देश में मॉब लीचिंग की यह पहली घटना थी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें