‘मेडिकल कॉलेज घोटाला’ मामले में चीफ जस्टिस के खिलाफ शिकायत दायर

नई दिल्ली। मेडिकल कॉलेज घोटाले मामले में भारत के प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ शिकायत दायर की गयी है। यह शिकायत वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने दायर की है। प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट के पांच वरिष्ठतम न्यायाधीशों से अनुरोध किया है कि वे इस मामले में अंदरूनी जांच करें।

वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने न्यायमूर्ति जे. चेलमेश्वर, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति मदन बी. लोकुर और न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ और न्यायमूर्ति ए.के. सीकरी को संबोधित अपनी शिकायत में प्रधान न्यायाधीश पर चार आरोप लगाए हैं।

भूषण ने कहा है, “प्रसाद एजुकेशन ट्रस्ट मामले से संबंधित तथ्यों और परिस्थितियों से प्रथम दृष्ट्या ऐसे सबूत सामने आते हैं, जो यह कहते हैं कि सीजेआई मिश्र मामले में अवैध रिश्वत के भुगतान की साजिश में शामिल हो सकते हैं, जिसकी कम से कम एक गहन जांच की जरूरत है।”

भूषण ने अपनी शिकायत में ओडिशा हाई कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश आई.एम. कुद्दुसी, बिचौलिए विश्वनाथ अग्रवाल और प्रसाद एजुकेशन ट्रस्ट के बी.पी. यादव के बीच हुई बातचीत का भी जिक्र किया है, जिसे टैप किया गया था. कुद्दुसी को सीबीआई ने गिरफ्तार किया था, और फिलहाल वह जमानत पर हैं।

प्रसाद एजुकेशन ट्रस्ट को भारतीय चिकित्सा परिषद ने मेडिकल के छात्रों का प्रवेश लेने से रोक दिया था, और उसके बाद संस्थान ने इलाहाबाद हाई कोर्ट तथा सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

प्रशांत भूषण ने प्रसाद एजुकेशन ट्रस्ट मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट के न्यायमूर्ति नारायण शुक्ला के खिलाफ मामला दर्ज करने की सीबीआई को अनुमति न देने के न्यायमूर्ति मिश्र के कदम पर भी अपनी शिकायत में सवाल उठाया है।

24 पृष्ठों की शिकायत में कहा गया है, “उपरोक्त दर्ज मामलों ने न्यायालय की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया है और न्यायपालिका को बदनाम किया है। यह एक ऐसा मामला है, जिसे तत्काल देखने की जरूरत है।” उन्होंने शिकायत में कहा है, “जांच तेजी के साथ होनी चाहिए, ताकि न्यायपालिका की प्रतिष्ठा को और नुकसान न पहुंचे और इसकी ईमानदारी व स्वतंत्रता बरकरार रहे।

बता दें कि वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने यह शिकायत कैंपेन फॉर जुडिशियल अकाउंटबिलिटी एंड रिफॉर्म्स के संयोजक के तौर पर सुप्रीमकोर्ट में दायर की है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *