मुज़फ्फरनगर दंगो के आरोपी बीजेपी नेताओं को क्लीन चिट देने की तैयारी !

नई दिल्ली। क्या उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार वर्ष 2013 में मुज़फ्फरनगर में हुए साम्प्रदायिक दंगो में आरोपी बीजेपी नेताओं को क्लीन चिट देने की तैयारी कर रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार योगी आदित्यनाथ सरकार यूपी के मंत्री सुरेश राणा, पूर्व केन्द्रीय मंत्री और सांसद संजीव बालियान, एमपी भारतेंदु सिंह, एमपी हुकुम सिंह और एमएलए उमेश मलिक के ख़िलाफ़ मुक़दमे वापस लेने की तैयारी में है। ये सभी बीजेपी नेता वर्ष 2013 के मुज़फ्फरनगर दंगो के आरोपी हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रदेश सरकार के न्याय विभाग ने डीएम और एसएसपी को चिट्ठी लिख कर इन मुक़दमों के बारे में जानकारी मांगी है. इसके साथ ही कोर्ट में मुक़दमे वापसी के लिए रिपोर्ट भी मांगी है।

इतना ही नहीं इन नेताओं से मुकदमे वापस लेने के लिए राज्य के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा जिलाधिकारी को एक पत्र भी भेजा गया है जिसमे इन नेताओं पर लंबित दंगो से जुड़े आपराधिक मामलों को वापस लेने की संभावना पर सूचना मांगी है।

पांच जनवरी को लिखे इस पत्र में उत्तर प्रदेश के न्याय विभाग में विशेष सचिव राज सिंह ने 13 बिंदुओं पर जवाब मांगा है जिनमें जनहित में मामलों को वापस लिया जाना भी शामिल है। हालाँकि इस पत्र में किसी नेता के नाम का खुलासा नहीं किया गया है लेकिन उनके खिलाफ दर्ज मामलों की फाइल संख्या का जिक्र है।

वहीँ सूत्रों की माने तो इसी तरह के पत्र पुलिस के आला अधिकारीयों को भी भेजे गए हैं। जिनमे मुकदमो से जुडी पूरी धाराओं की जानकारी और मुकदमो से जुडी संभावनाएं पूछी गयी हैं।

बता दें कि वर्ष 2013 में मुज़फ्फरनगर में हुए सांप्रदायिक दंगो में करीब 60 लोगों की मौत हो गयी थी वहीँ 40 हज़ार से अधिक लोग बेघर हो गए थे और उन्हें शरणार्थी कैम्पो में शरण लेनी पड़ी थी।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें