मुस्लिम लड़की की हिम्मत को सलाम : इस्लाम विरोधी रैली में घुसकर खींची हिजाब में सेल्फी

hizab-girl

ब्रसेल्स। कहीं किसी आस्था, समूह, देश, धर्म के विरुद्ध प्रदर्शन हो रहा हो। और आप उस प्रदर्शन में शामिल लोगों के सामने ही उसी बात का सपोर्ट करने लगे, जिसका विरोध हो रहा हो तो मामला बिल्कुल उल्टा पड़ जाता है। हिंसा की संभावनाएं हजार गुना बढ़ जाती है।

इस्लाम और हिजाब विरोधी रैली में एक युवती हिजाब पहनकर जाती है और प्रदर्शनकारियों के साथ ही सेल्फी भी खिंचवाती है। साथ ही उनके साथ गप्पे लड़ाती है, पर कहीं कोई बवाल नहीं होता। अब इस युवती की हिजाब में इस्लाम विरोधी रैली में खींची गई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं।

ये खबर बेल्जियम से है। जहां जाकिया बेलखीरी नाम की ये महिला बेल्जियम के एंटवर्प में इस्लाम जीवन पद्धति पर आयोजित प्रदर्शनी को देखने गई थीं। वहां उन्होंने देखा कि कार्यक्रम स्थल के बाहर इस्लाम विरोधी एक समूह विरोध-प्रदर्शन कर रहा है। यह देखकर उन्होंने अपने मोबाइल फोन से प्रदर्शनकारियों के साथ कई सेल्फी लीं।

इस विरोध-प्रदर्शन का आयोजन एक दक्षिणपंथी संगठन ने किया था। यह खुद को खुले तौर पर इस्लाम विरोधी बताता है। सेल्फी लेती जाकिया बेलखीरी की ये तस्वीर उनकी सेल्फी से भी ज्यादा वायरल हुई। जाकिया बेलखीरी ने स्थानीय मीडिया से बातचीत में कहा कि मैंने यह तस्वीरें ये दिखाने के लिए लीं कि अलग-अलग विचारधारा होने के बावजूद हम यूरोप में साथ-साथ जी सकते हैं। एक दूसरे के आगे नहीं। लेकिन एक दूसरे के साथ रहकर ही हम जी पाएंगे ।

इस प्रदर्शन के दौरान जब जाकिया तस्वीरें खींच रही थी, तो किसी ने भी उनका विरोध नहीं किया। उल्टे वो लोग उसके साथ तस्वीरें खिंचाने लगे। जबकि उनके हाथों में ‘ हिजाब नहीं’, ‘मस्जिद नहीं’ और ‘इस्लाम को रोको’ जैसे नारों वाली तख्तियां थी। प्रदर्शनकारी इस बात के लिए इस्लामिक प्रदर्शनी का विरोध कर रहे थे कि ये प्रदर्शनी इस्लाम को बाकियों से अलग दिखा रही थी।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें