महिला बॉक्सरो ने इनाम में मिली गायें मंत्री को वापस लौटायीं, कहा ‘दूध नहीं देतीं’

रोहतक। पिछले साल नवंबर में राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में मेडल जीतने वाले महिला बॉक्सरों में से तीन महिला बॉक्सरों ने इनाम में मिली हुई गायें मंत्री जी को वापस भेज दी हैं। बॉक्सरों का कहना है कि ये गायें दूध नहीं देतीं साथ ही परिजनों पर हमले भी करती हैं। ऐसे में इन गायो को वापस दे दिया गया है।

रोहतक की बॉक्सर ज्योति गुलिया ने कहा कि जब सरकार ने उसे गाय दी तो पांच दिनों तक उनकी मां ने गाय की सेवा की, लेकिन दूध की बात तो भूल जाइए, गाय ने हमारे परिवार पर तीन बार हमला कर दिया।

ज्योति गुलिया ने कहा, ‘गाय के हमले में मेरी मां घायल हो गई, और उनकी एक हड्डी टूट गई, हमने तुरंत गाय वापस कर दी।’ ज्योति ने कहा कि हम भैंस के साथ ही अच्छे हैं। इनाम मिल मिली हुई गायो को अब तक तीन महिला बॉक्सर वापस कर चुकी हैं जिनमे ज्योति, नीतू और साक्षी शामिल हैं।

गौरतलब है कि हरियाणा के कृषि मंत्री ने पिछले साल असम में हुई बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में पदक जीतने वाली तीन बॉक्सरों को यह कह कर इनाम में गाय दी थी कि हरियाणा की बेटियों ने कम उम्र में शानदार कामयाबी हासिल की है, इसलिए उन्हें कुछ अलग पुरस्कार मिलना चाहिए। उन्होंने कहा था कि राज्य सरकार सभी बॉक्सरों को एक-एक गाय देगी जिससे की बेटियां शुद्ध दूध-दही से सेहत और बुद्धि विकसित कर सकें।

बता दें कि पिछले साल 19 नवंबर से लेकर 26 नवंबर तक असम के गुवाहाटी में बॉक्सिंग चैम्पियनशिप हुई थी इसमें 6 बॉक्सरों ने मेडल जीता था। इनमें भिवानी की नीतू और साक्षी कुमार, हिसार की ज्योति और शशि चोपड़ा ने अपने अपने कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीता था। जबकि पलवल की अनुपमा और कैथल की नेहा ने कांस्य पदक जीता था।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें