महानदल के बाद शिवपाल से बातचीत, कांग्रेस ने दिए ओबीसी मतदाताओं में सेंध लगाने के संकेत

नई दिल्ली। 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी जिन जातिगत समीकरणों के सहारे उत्तर प्रदेश में 72 सीटें जीतने में सफल रही थीं, कांग्रेस उन्ही जातीय समीकरणों को लेकर आगे बढ़ रही है।

2019 के लोकसभा चुनाव में महान दल से गठबंधन कर कांग्रेस ने इस बात के संकेत दे दिए हैं कि वह बीजेपी के कोर वोट बैंक में सेंधमारी करेगी। 2014 के लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस ने महान दल के साथ गठबंधन किया था और महान दल 03 सीटों बदायूं, एटा और नगीना पर चुनाव लड़ा था। हालाँकि महान दल को तीनो सीटों पर पराजय का सामना करना पड़ा था।

एटा लोकसभा सीट पर महान दल के प्रत्याशी जोगिंदर सिंह भदौरिया को 12445 वोट मिले थे, वहीँ बदायूं सीट पर महानदल के प्रत्याशी पागलानन्द को 5748 वोट और नगीना लोकसभा सीट पर महानदल के प्रत्याशी भगवान दास राठोर को 4581 वोट मिले थे।

इन सब हालातो के बावजूद माना जा रहा है कि महान दल की शाक्य, मौर्य, कुर्मी, धीमर, कुशवाहा मतदाताओं पर अच्छी पकड़ है। वहीँ अब खबर आ रही है कि कांग्रेस की तरफ से शिवपाल की पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी से गठबंधन को हरी झंडी दे दी गयी है और अगले दो तीन दिन में आधिकारिक रूप से इसका एलान कर दिया जाएगा।

इसलिए माना जा रहा है कि शिवपाल यादव की पार्टी के साथ गठबंधन कर कांग्रेस ओबीसी वोट बैंक खड़ा करने की अपनी कवायद के तहत यादव मतदाताओं का एक बड़ा हिस्सा भी पार्टी से जोड़ने में कामयाब हो सकती है।

जिन क्षेत्रो में महान दल का वोट बैंक है, उन्ही क्षेत्रो में यादव मतदाताओं की तादाद भी अच्छी बताई जाती है। एटा, मैनपुरी, फ़िरोज़ाबाद, बदायूं यादव मतदाताओं के गढ़ बताये जाते हैं। इसलिए अब ये कयास भी लगाए जा रहे हैं कि जिन लोकसभा क्षेत्रो में कांग्रेस का वर्चस्व काफी पहले से नहीं है उन लोकसभा क्षेत्रो को गठबंधन के तहत महान दल और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी(लोहिया) को दे सकती है।

पार्टी सूत्रों की माने तो अभी गठबंधन को लेकर पीस पार्टी से भी बात चल रही है और यह सकारत्मक दिशा में है। यदि पीस पार्टी से भी कांग्रेस का गठबंधन होता है तो कांग्रेस यादव, मुस्लिम,ओबीसी मतदाताओं के अलावा अपने परम्परागत मतदाताओं के सहारे करीब 40 सीटों पर कड़ी टक्कर दे सकती है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें