मध्य प्रदेश में आज से होगा किसान आंदोलन, न सब्ज़ी आएगी शहर, न दूध

भोपाल। मध्य प्रदेश के मंदसौर में पिछले साल पुलिस फायरिंग में 6 किसानो की मौत का एक वर्ष पूरा होने पर किसानो ने दस दिन तक गाँव बंद का एलान किया है। गाँव बंद के दौरान शहर को गाँवों से होने वाली सब्ज़ी और दूध की आपूर्ति को बंद कर दिया जाएगा।

आम किसान यूनियन के प्रमुख केदार सिरोही ने आईएएनएस को बताया कि राज्य के 150 से ज्यादा किसान संगठनों ने इस आंदोलन का समर्थन किया है, साथ ही प्रदेश की सभी 53 हजार पंचायतों ने किसान हित की लड़ाई जारी रखने पर हामी भरी है।

उन्होंने कहा, “सरकार किसानों को अपना हक मांगने पर गोली मारती है और डंडे बरसाती है। छह जून किसानों के लिए काला दिन है। इस घटना के एक साल पूरा होने पर हम बरसी मना रहे हैं। अब 10 दिन तक किसी गांव से न तो कोई सामान शहर आएगा और न ही जाएगा।”

उधर, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह भोपाल पहुंचे, उन्होंने किसानों के इस आंदोलन को कांग्रेस का आंदोलन बताया। उनका कहना है कि राज्य की शिवराज सिंह चौहान सरकार किसानों के हित में काम कर रही है और उसने कई बड़े फैसले लिए हैं।

किसानों के एक जून से होने वाले आंदोलन को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज पत्रकारों के सवालों पर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हुए। वहीं पुलिस और प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए हैं। कई किसान नेताओं से बॉण्ड भरा लिए गए हैं। साथ ही उन पर खास नजर रखी जा रही है।

मंदसौर में पिछले साल पुलिस गोलीबारी में हुई किसानो की मौत को लेकर कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर हमले तेज कर दिए हैं। वहीँ बीजेपी कांग्रेस पर किसानो को उकसाने का आरोप लगा रही है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें